दूध पीने के जबरदस्त फायदे और नुकसान के बारे में संपूर्ण जानकारी(Dudh ke fayde/Benefits of milk )

You are currently viewing दूध पीने के जबरदस्त फायदे और नुकसान के बारे में संपूर्ण जानकारी(Dudh ke fayde/Benefits of milk )

दोस्तो दूध(Milk) एक मात्र ऐसी चीज है जो अकेले ही संपूर्ण आहार के बराबर होता है और यही वजह है कि पैदायशी बच्चों को जो चीज सबसे पहले आहार के रूप में दी जाती है वह दूध(Milk) ही होता है क्योंकि अगर आप दूध(Milk) के गुण को ठीक से देखेंगे तो ये किसी अमृत से कम नहीं होता लेकिन अच्छी से अच्छी चीज का इस्तेमाल अगर गलत तरीके से करते हैं तो उसका हमें फायदा होने के बजाय नुकसान हो जाता है।

Read this-अश्वगंधा क्या है, फायदे,नुकसान संपूर्ण जानकारी (Ashwagandha kya hai)

दूध क्या है(Milk in hindi)

दूध(Milk) एक minerals प्रोडक्ट होता है चूंकि हमें किसी जीवित प्राणी से मिलते हैं और हर वो चीज जो हमें जीवित प्राणी से मिलती है उसमें केमिकल रिएक्शन करने की टेंडेंसी काफी ज्यादा होती है जिसकी वजह से दूध(Milk) का गलत मात्रा में और गलत तरीके से इस्तेमाल करने से अपचन खट्टी डकारें गैस कब्ज सीने में जलन और यहां तक कि स्किन एलर्जी जैसी प्रॉब्लम शुरू हो सकती है।

इसलिए दूध(Milk) की सही मात्रा, इसे पीने का सही समय और दूध(Milk) को किन किन चीजों के साथ मिला कर पीने से क्या क्या फायदे और क्या क्या नुकसान होते हैं इस बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी होता है। इसलिए आज की इस article में हम जानेंगे कि एक दिन में ज्यादा से ज्यादा कितना दूध(Milk) पिया जा सकते हैं।दूध(Milk) पीने का सही समय के साथ वजन बढ़ने और वजन घटाने वाले लोगों को दूध(Milk) का इस्तेमाल कब और किस तरह करना चाहिए। दूध(Milk) कैसा होना चाहिए। यानि गर्म या ठंडा महसूस करें या गाय का होना चाहिए दूध(Milk) का इस्तेमाल किन किन लोगों को करना चाहिए और किन्हें नहीं करना चाहिए और दूध(Milk) को किन किन चीजों के साथ मिला कर खाने से क्या क्या फायदे और क्या क्या नुकसान होते हैं। खासकर दूध(Milk) केले के साथ और दूध(Milk) का अंडे के साथ खाना चाहिए या नहीं खाना चाहिए।

Read this-अमीर कैसे बने? जल्दी अमीर बनने के 5 बेहतरीन उपाय(How to become rich)

एक दिन में ज्यादा से ज्यादा कितना दूध(Milk) पिया जा सकता है

उसके लिए हमें पहले ये जानना होगा कि दूध(Milk) में क्या क्या होता है और ये कौन कौन सी प्रॉब्लम में फायदा पहुंचाता है। दोस्तो दूध(Milk) पोषक तत्वों से भरपूर होता है इसलिए इसका सही तरीके से और सही समय पर इस्तेमाल करने से पाचन क्रिया को ठीक करते हुए दिमागी ताकत को बढ़ाने के अलावा वजन का न बढ़ना हड्डियों की कमजोरी कब्ज रातों को नींद न आना जैसी समस्याओं में फायदा पहुंचाने के साथ साथ त्वचा बाल और शिक्षण हेल्थ को भी काफी हद तक इम्प्रूव करने में मदद करता है।

दूध(Milk) में कैल्शियम प्रोटीन और विटामिन डी की मात्रा सबसे ज्यादा होती 200 मिली लीटर दूध(Milk) में लगभग 257 मिलीग्राम कैल्शियम होता है और हमारे शरीर को एक दिन में 1000 मिलीग्राम से लेकर 12 सौ मिलीग्राम कैल्शियम की जरूरत पड़ती है तो अगर इस हिसाब से देखा जाए तो डेली एक से दो गिलास दूध(Milk) का सेवन करना काफी हो जाता है। बाकी के कैल्शियम और विटामिन डी हमें दूसरे खाने से भी मिल जाते हैं। लेकिन अगर आप जिम या कोई ज्यादा मेहनत वाला काम करते हैं तो दूध(Milk) की थोड़ी मात्रा बढ़ाई जा सकती है।

Read this-Chia seed क्या है, फायदे, उपयोग सम्पूर्ण जानकारी(Chia seed in hindi)

दूध(Milk) पीने का सही समय क्या है।

वैसे तो दूध(Milk) का इस्तेमाल कभी भी किया जा सकता है लेकिन रात के समय में दूध(Milk) का सेवन करना सबसे ज्यादा फायदेमंद साबित होता है क्योंकि दूध(Milk) में खीर तो नाम का एमिनो एसिड पाया जाता है जो दिमाग को शांत करके अच्छी नींद दिलाने में बहुत मदद करता है और सुबह खुलकर पेट भी साफ होता है।

कुछ लोग सुबह खाली पेट दूध(Milk) का इस्तेमाल करने में कन्फ्यूज रहते हैं। बच्चे सुबह खाली पेट भी दूध(Milk) का इस्तेमाल किया जा सकता है लेकिन जिन लोगों को लैक्टोज से एलर्जी है और अक्सर कब्ज अपचन और गैस की समस्या रहती है तो उन्हें दूध(Milk) खाली पेट बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि दूध(Milk) पचने में थोड़ा हेवी होता है और खाली पेट इसके सेवन से हमारे पाचन तंत्र को बहुत मेहनत करनी पड़ती है।

Read this-Blackberry का सेवन कब और कैसे करना चाहिए, फायदे, नुकसान बेसिक जानकारी(About BlackBerry in Hindi)

दूध(Milk) कैसे पीना चाहिए। गर्म या ठंडा?

गाय का या भैंस का दूध(Milk) तो दूध(Milk) हमेशा हल्का गर्म यानि गुनगुना ही पीना चाहिए क्योंकि दूध(Milk) वैसे भी पचने में थोड़ा हेवी होता है लेकिन जब हम ठंडा दूध(Milk) या फ्रिज में रखा दूध(Milk) पी लेते हैं तो वो और ज्यादा हेवी हो जाता है और ये हमारे पेट में जाकर ठीक से पच नहीं पाता जिसकी वजह से दूध(Milk) में मौजूद पोषक तत्वों का पूरा फायदा हमारे शरीर को मिल ही नहीं पाता।

दूध(Milk) गाय का होना चाहिए या भैंस का दूध(Milk)

दोनों ही दूध(Milk) में कैल्शियम काफी मात्रा में पाया जाता है लेकिन भैंस के दूध(Milk) में गाय के दूध(Milk) के मुकाबले फैट और कैलरीज ज्यादा होते हैं। इसलिए जो लोग वजन बढ़ाना चाहते हैं भैंस के दूध(Milk) का ही इस्तेमाल करना चाहिए।

दूसरी तरफ गाय के दूध(Milk) में फैट की मात्रा कम होती है इसलिए पचने में भी हल्का होता है। सेहत और ताकत के नजरिए से भी दूध(Milk) काफी हेल्दी होता है इसलिए जो लोग वजन बढ़ाना नहीं चाहते या वजन घटाना चाहते हैं तो उन्हें गाय के दूध(Milk) का ही सेवन करना चाहिए।

Read this-Blogger कैसे बने? Blog क्या है, blogger से जुडी सम्पूर्ण जानकारी(About blogger in Hindi)

दूध(Milk) किन किन चीजों के साथ और कब कब पीना चाहिए और कब कब नहीं पीना चाहिए

दोस्तो जैसा कि मैंने पहले ही बताया कि दूध(Milk) हमें जीवित प्राणी से मिलता है इसलिए इसमें हॉर्मोन्स इनसाइड और एमिनो एसिड की मात्रा अधिक होती है इसलिए ज्यादातर खाने के साथ केमिकल रिएक्शन भी जल्दी करने लगते हैं जिससे कि दूध(Milk) ठीक से पच नहीं पाता और दूध(Milk) से मिलने वाले फायदे भी जीरो हो जाते हैं।

इसलिए दूध(Milk) पीने में हमारे द्वारा की गई छोटी से छोटी गलती भी दूध(Milk) से मिलने वाले फायदे को नुकसान में बदल सकते हैं। पहले बात करते हैं कि दूध(Milk) कम कब नहीं पीना चाहिए। खाना खाने के बाद अक्सर देखा गया है कि लोग रात का खाना खाने के तुरंत बाद दूध(Milk) पी लेते हैं।

पोषक तत्वों के नजरिये से दूध(Milk) अपने आप में ही एक वक्त के खाने के बराबर होता है और अगर हम खाना खाने के तुरंत बाद दूध(Milk) पी लेते हैं तो इसका मतलब होता है कि एक टाइम में दो वक्त का खाना खा लेना जिससे भारीपन महसूस होने लगता है और साथ ही साथ एसिडिटी पेट फूलना और अपचन जैसी समस्या शुरू होने लगती है। इसलिए दूध(Milk) का इस्तेमाल हमेशा। खाना खाने के कम से कम दो घंटे बाद और सोने से आधे घंटे पहले ही करना चाहिए।

Read this-101 दिमाग हिला देने वाली पहेलियां और उनके जवाब(101 paheliyan in Hindi)

नंबर दो खट्टे फल जंक फूड ये सदन नमकीन और चटपटी चीजों के साथ खट्टे फल नीम्बू संतरे और ज्यादा नमकीन चीजें जैसे कि मिक्चर अचार और जंक फूड जैसी चीजों के साथ दूध(Milk) का मेल बिल्कुल भी नहीं बनता जिसकी वजह से दूध(Milk) के साथ या दूध(Milk) के पीने से पहले या बाद में इन चीजों का सेवन कर लिया जाए तो ये हमारे पेट में जाकर मिलने के बाद पाचन क्रिया को बहुत धीमा कर देता है।

जिससे अपचन भारीपन गैस ब्लॉटिंग खट्टी डकारें कमजोरी और पेट दर्द जैसी समस्या शुरू हो जाती है। इसलिए दूध(Milk) के साथ पहले या बाद में खट्टे फल नमकीन और ज्यादा चटपटी चीजों का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। कुछ लोग दूध(Milk) का इस्तेमाल सेब या केले के साथ शेक बनाकर करते हैं। अगर आपको पाचन की समस्या नहीं होती तो दूध(Milk) के साथ सेब या केले का इस्तेमाल किया जा सकता है लेकिन अगर आयुर्वेद की मानें तो दूध(Milk) अपने आप में थोड़ा हेवी होता है।

जिसे पचने में लगभग 90 मिनट का समय लगता है और जब हम दूध(Milk) को किसी फल के साथ मिक्स कर देते हैं तो यह और भी ज्यादा हावी हो जाता है जिसे पचाने के लिए हमारे पाचन तंत्र को बहुत मेहनत करनी पड़ती है और हम एक गलती और करते हैं कि शेक बनाने में हम ठंडे दूध(Milk) का इस्तेमाल करते हैं और साथ ही साथ हम इसमें चीनी भी मिक्स कर देते हैं जोकि किसी भी तरह एक सही ऑप्शन बिल्कुल भी नहीं।

दूध(Milk) का ठंडा होना दूध(Milk) को और भी ज्यादा हैवी बना देता है और दूध(Milk) में चीनी मिलाने से ये दूध(Milk) के पोषक तत्वों को काफी हद तक नष्ट कर देता है। दूध(Milk) में खुद लैक्टोज नाम का नैचुरल शुगर होता है जो दूध(Milk) को मीठा बनाता है। लेकिन अगर आप दूध(Milk) को अलग से मीठा करना चाहते हैं तो चीनी की जगह शहद मिश्री देसी खांड या फिर जेली पाउडर का इस्तेमाल किया जा सकते हैं।

दूध(Milk) और दूसरे खाने के बीच दो से तीन घंटे का अंतराल और दूध(Milk) और मीठे फल के बीच कम से कम आधे घंटे का अंतराल जरूर रखना चाहिए। नंबर तीन दूध(Milk) नॉनवेज के साथ यानी गोश्त मछली और अंडे के साथ कहा जाता है कि दूध(Milk) के साथ पहले या बाद में मछली का सेवन कर लिया जाए तो स्किन पर सफेद धब्बे यानि कोडरमा जैसी बीमारी हो जाती है। हालांकि यह अभी तक के लिए पूरी तरह से प्रूव नहीं है लेकिन फिर भी इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता क्योंकि स्किन पर सफेद धब्बे होने के एक कारण भी साइंटिफिक कलई अभीतक पूरी तरह प्रूव नहीं है और हमारे बड़े बुजुर्ग भी दूध(Milk) के साथ मछली खाने से हमेशा ही मना करते हैं।

Read this-Cornstarch क्या होता है, Cornstarch का मतलब (What is cornstarch in hindi)

ये और बात है कि हम में से अक्सर लोग उनकी बातों को नॉनसेंस समझते हैं क्योंकि वो हमें किसी भी बात की वजह ठीक से एक्सप्लेन नहीं कर पाते। लेकिन अगर आप डीप में जाकर सोचें तो उनकी ज्यादातर बातें हमारी जिंदगी की सच्चाई से रिलेट करती हैं। इसलिए बेहतर यही है कि दूध(Milk) और मछली का इस्तेमाल साथ में न किया जाए और अगर खाना ही है तो इन दोनों के बीच कम से कम दो से तीन घंटे का अंतराल जरूर रखा जाए।

अगर आपको डाइजेशन की प्रॉब्लम नहीं हो तो गोश्त या अंडे के साथ दूध(Milk) का इस्तेमाल किया जा सकता है लेकिन यह भी ध्यान देने वाली बात ये है कि मांस और दूध(Milk) इन दोनों में ही प्रोटीन बहुत ही अधिक मात्रा में पाए जाते हैं जिससे ये पाचन क्रिया को धीमा कर देता है और इसे डाइजेस्ट होने में काफी समय लगता है। इसलिए नॉनवेज के साथ दूध(Milk) का सेवन करना एक अच्छा ऑप्शन बिल्कुल भी नहीं है और अगर आप खाने में बैंगन या कच्चे प्याज का सेवन करते हैं तो ये भी दूध(Milk) के गुण के वृद्ध होता है। इसलिए दूध(Milk) नॉनवेज और दूसरे खाने के बीच कम से कम दो से तीन घंटे का अंतराल जरूर रखना चाहिए।

दूध(Milk) दही के साथ खा सकते हैं

दही में lactobacillus नाम का बैक्टीरिया होता है जो कि दूध(Milk) को दही में जमता है और जब हम दही और दूध(Milk) का एक साथ सेवन कर लेते हैं तो दूध(Milk) के दही जमने की प्रक्रिया हमारे पेट में ही शुरू हो जाती है जिससे हमारा डाइजेस्टिव सिस्टम पूरी तरह कन्फ्यूज हो जाता है और पाचन क्रिया में समस्याएं आ जाती हैं। इसलिए दूध(Milk) के साथ दही का भी सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।

किसे दूध(Milk) नहीं पीना चाहिए

जिन लोगों के शरीर पर कोई बड़ा जख्म है या हाल ही में सर्जरी हुई हो उन्हें दूध(Milk) का इस्तेमाल कुछ दिनों के लिए बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए क्योंकि दूध(Milk) के लगातार इस्तेमाल करते रहने से जख्म सूख नहीं पाते हैं और हमें इस समस्या का लगातार सामना करना पड़ता है और जिन लोगों को लैक्टोज से एलर्जी है या जिन्हें हमेशा चेहरे पर एक्ने और पिंपल्स की प्रॉब्लम रहती है उन्हें भी दूध(Milk) कम मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए और बॉडी का रिस्पॉन्स देखते हुए धीरे धीरे उनकी मात्रा बढ़ाना चाहिए

Read this-GST का फुल फॉर्म क्या है, GST क्या है (About GST full form information)

यह article “दूध पीने के जबरदस्त फायदे और नुकसान के बारे में संपूर्ण जानकारी(Dudh Peene ke fayde)“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।