Astrology का मतलब क्या है, Astrology कैसे काम करती है (Astrology meaning in Hindi)

You are currently viewing Astrology का मतलब क्या है, Astrology कैसे काम करती है (Astrology meaning in Hindi)

Astrology एक ऐसी Field है जो बोलती है कि हम इंसानों की Life और दुनिया के Future के बारे में जान सकते हैं Stars Planets और Moon जैसे object को observe करके Astrology के सबसे पुराने reference मेसोपोटामिया की इंटेंसिटी बेबीलोन में ढूंढने पर मिले हैं और ये 25 हजार साल पुरानी Field हैं। लेकिन क्या Astrology के पीछे कोई रियल Science है या फिर ये बस लोग अंधविश्वास है कि करोड़ों किलोमीटर दूर उड़ते Stars और Planet हमारी personality के बारे में बता सकते हैं या फिर हमारी सक्सेस हेल्थ या रिलेशनशिप्स को ठीक कर सकते हैं।

Read this-Genius का हिंदी मतलब क्या है। Genius कैसे बने (Genius meaning in Hindi)

Astrology कैसे काम करती है

इसका जवाब पाने के लिए हमें psychology और neuroscience की मदद लेनी होगी। अपनी बुक द ओरिजन एन हिस्ट्री ऑफ कॉन्शस नेस्ट में psychologist एरिक नॉर्मन बताते हैं कि हम इंसान हमेशा से ही इतने self aware नहीं थे और एक समय पर हम लोगों में ईगो, कॉन्फिडेंस, सेल्फ आइडेंटिटी जैसी कोई चीज भी नहीं होती थी।

इस समय पर हमारे पूर्वज बिना किसी कॉन्शस कंट्रोल के act किया करते थे जहां modern human के मन को तीन हिस्सों में डिवाइड किया जा सकता है। यानि conscious, subconscious और unconscious हमारे दिमाग का सबसे पुराना हिस्सा है जिसमें हमारी पूरी स्पीशीज की मेमोरीज भी होती हैं और हमारी भी। ये वही हिस्सा है जहां पर खयालों बेसिक स्ट्रिंग्स और सपनों का जन्म होता है लेकिन unconscious होने की वजह से हम अपने मन के इस हिस्से को डायरेक्टली एक्सेस नहीं कर सकते।

subconscious Mind वो होता है जिसके बारे में हम सभी aware होते हैं। जैसे हमारी habits और conscious Mind वो होता है जो हमारे मन का सबसे नया part है और ये हमारी सेल्फ और डिसिजन मेकिंग जैसी चीजों से रिलेटेड होता है।

Read this-Blackberry का सेवन कब और कैसे करना चाहिए, फायदे, नुकसान बेसिक जानकारी(About BlackBerry in Hindi)

वहीं हमारे पूर्वज सिर्फ और सिर्फ अपनी unconscious mind के कंट्रोल में होते थे। बिल्कुल वैसे ही जैसे बाकी जीव जंतु होते हैं। unconscious Mind से निकली कमांड्स उनके लिए भगवान की दी डायरेक्शंस की तरह होती थीं जो उन्हें गाइड करती थीं कि उन्हें हर सिचुएशन में क्या करना चाहिए। modern science बताती हैं कि हमारा unconscious Mind और उसके आटोमैटिक प्रोसेसर्स हमारे दिमाग के राइट hemisphere से जुड़े होते हैं। इसका का काम होता है एक environment की होलिस्टिक अंडरस्टैंडिंग को इकट्ठा करना और इस इन्फर्मेशन को लेफ्ट hemisphere में भेजना जो इस इन्फर्मेशन को लैंग्वेज में कन्वर्ट करके इसपर rationality अप्लाई करता है।

अपनी बुक the bicameral mind में और जूलियन जेम्स मानते हैं कि इंसानों की लैंग्वेज को यूज करने की एबिलिटी सिर्फ एक hemisphere से इसलिए ज्यादा रिलेटिड है क्योंकि दूसरा हम hemisphere भगवानों के आइडियाज बनाने मे involove था। सिम्पल भाषा में बोलें तो लेफ्ट hemisphere लॉजिक rationality और नोन चीजों से डील करता है जबकि राइट hemisphere क्रिएटिविटी और unknown चीजों से डील करता है।

हमारे पूर्वज के दिमाग कर राइट hemisphere ज्यादा डॉमिनेटिंग था जिसमें जैसे वो दुनिया को समझने के लिए अपनी ऑब्जर्वेशन को भगवानों की स्टोरी में ढालकर कौन समझते थे और इसी वजह से जब उन्होंने Stars के पैटर्न्स को ऑब्जर्व करना शुरू किया तब वो अपनी इन स्टोरीज को उन कॉन्स्टिट्यूशन पर प्रेजेंट करने लग गए।

हमारे पूर्वज stars को डायरेक्शंस जानने के लिए यूज करने लगे और अपने में ही से उन्हें अंदर ही अंदर ये समझाने आने लगा कि वो आसमान की तरफ देख सकते हैं और अपने आपको भगवानों की तरफ मोड़ सकते हैं।

Read this-अपने डर को जड़ से खत्म कैसे करे, डर का मतलब क्या होता है(About fear meaning in hindi)

स्विस साइकियाट्रिस्ट कार्यों का साइकोलॉजिकल मॉडल बताता है कि हम अपने अन कॉन्शस स्माइल के कंटेंट्स को बाहरी दुनिया पर प्रजेंट करते हैं ताकि हम उसे कॉन्शस बना पाएं। इसी तरह से एक समय पर हम पूरे ब्रह्मांड पर अपनी इमेजिनेशन को प्रोजेक्ट कर रहे थे ताकि हम अपनी इमैजिनेशन को ऑब्जर्व करके उसमें ऐसी कहानियां ढूंढ पाते जो हमें ये समझाती कि हम कौन हैं कौन सी चीज सही या गलत है और हमें हर अलग सिचुएशन को कैसे हैंडल करना चाहिए हर वो स्टोरी करेक्टर या राजा जो सबसे अच्छे गुण दिखाता उसे इन भगवानों के बीच प्लेस कर दिया जाता था ताकि हर इंसान ऊपर देख सके और उन महान कैरेक्टर्स की क्वालिटीज को अपने अंदर ढूंढने की कोशिश कर सके।

यही रीजन है कि क्यों हर Planet को अलग अलग पर्सनैलिटी असाइन कही गई। जूपिटर आपकी गुडइनफ से रिलेटिड है। वीनस आपकी ब्यूटी और प्यार करने की कपैसिटी है। मार्स आपका गुस्सा और एनर्जी है और सैटर्न आपको टाइम और स्ट्रक्चर की वैल्यू समझाता है। यानी Stars और Planets हमारे इनवेस्टर्स के लिए लिबरल और मोरल कंपास के जैसे थे और इस वजह से वो उन्हें एक लॉन्ग टर्म की घड़ी की तरह समझते थे और उसके थ्रू अपने Future को पता करने की कोशिश करते थे। टॉप क्वेश्चन ये आता है कि क्या Astrology बस आसमान में छपी हमारी माइथोलॉजी है।

यह article “Astrology का मतलब क्या है, Astrology कैसे काम करती है (Astrology meaning in Hindi)“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।