तरंग(Wave in hindi)किसे कहते है। यह कैसे बनती है तरंग के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी-Wave meaning in hindi

You are currently viewing तरंग(Wave in hindi)किसे कहते है। यह कैसे बनती है तरंग के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी-Wave meaning in hindi

हेलो दोस्तों आपने कभी न कभी तरंग(wave in hindi) का नाम जरूर सुना होगा। और इसे सुनने के बाद आपको इसके बारे में जाने के लिए उत्सुकता भी प्रकट हुई होगी। आखिर यह तरंग होता क्या है। मै दावा करता हु आर्टिकल के अंत तक आपके तरंग(wave meaning in hindi) से जुड़े सारे कांसेप्ट clear हो जाएंगे।

Contents hide

तरंग किसे कहते है- What is wave in hindi

तरंगों के द्वारा ऊर्जा का एक स्थान से दूसरे स्थान तक स्थानान्तरण होता है। तरंगें(wave meaning in hindi) कई प्रकार की होती हैं जैसे-पानी की तरंगें, ध्वनि तरंगें,प्रकाश तरंगे,तथा रेडियो तरंगें। इन सभी के द्वारा ऊर्जा का एक स्थान से दूसरे स्थान तक संचरण होता है। उपर्युक्त तरंगों में पहली दो प्रकार की तरंगों यानि पानी की तरंगों व ध्वनि तरंगों के लिये एक माध्यम (medium) की आवश्यकता होती है।

ये तरंगें माध्यम को बिना कोई नुकसान पहुँचाये आगे बढ़ती हैं । जब कि अन्तिम दो तरंगों(wave in hindi) यानि प्रकाश तरंगों तथा रेडियो तरंगों के संचरण के लिये किसी माध्यम की आवश्यकता नहीं पड़ती तथा ये तरंगें निर्वात (Vaccum) में भी चलती हैं।

तरंगों को मुख्यतः दो भागों में बाँटा जा सकता है –

(1) यांत्रिक तरंगें (Mechanical Wave in hindi)
(2) अयाँत्रिक तरंग (Non-mechanical Waves in hindi) या
विद्युत चुम्बकीय तरंगें (Electro magnatic waves in hindi)

1)याँत्रिक तरंगे (Mechanical Waves in hindi)-

यदि किसी शान्त नदी या तालाब के जल में कोई पत्थर का टुकड़ा फेंका जाय तो जहाँ पर पत्थर गिरता है, उस स्थान पर एक विक्षोभ (disturbance) उत्पन्न हो जाता है। यह विक्षोभ बगैर कोई अपना रूप बदले, बाहर की ओर बढ़ने लगता है तथा किनारे तक पहुँच जाता है।

इसी प्रकार यदि एक रस्सी के टुकड़े के एक सिरे को दीवार से बाँध दिया जाय व दूसरे सिरे को हाथ में पकड़ कर ऊपर-नीचे किया जाय तो भी रस्सी में एक विक्षोभ उत्पन्न होता है। इस प्रकार किसी माध्यम में उठे विक्षोभ को याँत्रिक तरंगें (wave in hindi)कहते हैं। याँत्रिक तरंगों के किसी माध्यम में संचरण के लिये यह आवश्यक है कि माध्यम में प्रत्यास्थता (elasticity) व जड़त्व (inertia) के गुण मौजूद हों।

याँत्रिक तरंगों के प्रकार (Types of mechanical
waves)–याँत्रिक तरंगे मुख्यतः दो प्रकार की होती हैं—

(1) अनुप्रस्थ तरंगें(Transverse wave in hindi) ।
(2) अनुदैर्ध्य तरंगें(Langitudinal wave in hindi)|

1)अनुप्रस्थ तरंगें (Transverse wave in hindi)—

जब किसी माध्यम में यांत्रिक तरंग के संचरित होने पर माध्यम के कण तरंग के चलने की दिशा के लम्बवत् (Perpendicular) कम्पन करते हैं तो तरंग को अनुप्रस्थ तरंग कहते हैं। अनुप्रस्थ तरंगें केवल ठोस में उत्पन्न की जा सकती है। द्रवों के भीतर ये तरंगे(wave meaning in hindi) उत्पन्न नहीं की जा सकतीं, लेकिन उनकी सतह पर उत्पन्न की जा सकती हैं।

गैसों.में अनुप्रस्थ तरंगें उत्पन्न नहीं की जा सकती क्योंकि उनमें दृढ़ता नहीं होती है। अनुप्रस्थ तरंगें श्रृंग (crest) व गर्त (trough) के रूप में संचरित होती है ।

निचे फोटो मे अनुप्रस्थ तरंग का संचरण प्रदर्शित किया गया है। इसमें ऊपर की ओर अधिकतम विस्थापन को श्रृंग व नीचे की ओर अधिकतम विस्थापन को गर्त कहते हैं।

एक श्रृंग से दूसरे श्रृंग अथवा एक गर्त से दूसरे गर्त के बीच की दूरी ‘तरंग दैर्ध्य’ कहलाती है। इसे λ से प्रदर्शित करते हैं

2)अनुदैर्ध्य तरंगें (Longitudinal waves in hindi)-

जब किसी माध्यम में यांत्रिक तरंगें इस प्रकार चलती हैं कि माध्यम के कण तरंग के संचरण की दिशा में समान्तर कम्पन करते हैं, तो ऐसी तरंगों को अनुदैर्ध्य तरंगें कहते हैं। अनुदैर्ध्य तरंगें सभी माध्यमों (ठोस, द्रव, गैस) में उत्पन्न की जा सकती हैं।

ये तरंगें संपीडन (Compression)विरलन (rarefaction) के रूप में संचरित होती हैं। संपीडन वाले स्थानों पर माध्यम के कण पास-पास होते हैं, जिससे इन स्थानों पर माध्यम का दाब व घनत्व सामान्य अवस्था से अधिक होता है, जबकि विरलन वाले स्थानों पर माध्यम के कण दूर-दूर होते हैं, जिससे इन स्थानों पर माध्यम का दाब व घनत्व न्यूनतम होता है।

वायु में उत्पन्न तरंगें अनुदैर्ध्य तरंगें ही होती हैं। द्रवों की सतह पर अनुप्रस्थ तरंगों का संचरण होते हुए भी उनके भीतर केवल अनुदैर्ध्य तरंग ही संचरित हो, सकती है। भूकम्प तरंगें, स्प्रिंग में उत्पन्न तरंगें आदि अनुदैर्ध्य तरंगें हैं। एक संपीडन से दूसरे संपीडन के बीच की दूरी अथवा एक विरलन से दूसरे विरलन के बीच की दूरी अनुदैर्ध्य तरंग की तरंग दैर्ध्य (wavelenth in hindi)कहलाती हैं।

आयाम (Amplitude in hindi)-

जब किसी माध्यम में अनुदैर्ध्य या अनुप्रस्थ तरंगों का संचरण होता है तो माध्यम के सभी कण संचरण की दिशा मे कम्पन करने लगते हैं। माध्यम का कोई कण अपनी साम्यावस्था (equilibrum position) के दोनों ओर जितना अधिक विस्थापित होता है, उस दूरी को आयाम कहते हैं । आयाम को ‘a’ से प्रदर्शित करते हैं।

आवर्त काल (Time-period)—

माध्यम का कम्पन करता हुआ कोई कण एक कम्पन पूरा करने में जितना समय लेता है,उसे आवर्तकाल कहते हैं। इसे प्रायःT से प्रदर्शित करते हैं।

तरंग दैर्ध्य (Wave length)-

माधाम के किसी कण के एक पूरा कम्पन किये जाने पर गाजतनी दूरी तय करती है उसे तरंग दैर्ध्य कहते हैं। इसे λ से प्रदर्शित करते हैं। अनुप्रस्थ तरंगों में दो पास-पास के श्रृंगों अथवा गों के बीच की दूरी तथा अनुदैर्ध्य तरंगों में क्रमागत दो संपीडन या विरलन के बीच की दूरी तरंग दैर्ध्य(wave meaning in hindi) कहलाती है।

आवृत्ति (Frequency)-

माध्यम मे कम्पन करता हुआ कोई कण एक सेकेण्ड में जितने कम्पन करता है, उसे आवृत्ति कहते हैं। इसे n से प्रदर्शित करते हैं।

तरंग चाल (Wave speed) –

तरंग द्वारा दूरी तय करने की दर को तरंग चाल कहते हैं। इसे से प्रदर्शित करते हैं। सभी प्रकार की तरंगों में तरंग के वेग, तरंग दैर्ध्य व आवृत्ति के बीच निम्न सम्बन्ध होता है-

तरंग का वेग = आवृत्ति x तरंग दैर्ध्य

(2) अयाँत्रिक तरंग (Non-mechanical Waves in hindi) या विद्युत चुम्बकीय तरंगें (Electro magnatic waves in hindi)

अयाँत्रिक तरंग (Non-mechanical Waves)-“वैसे तरंगे जिनके संचरण के लिए किसी माध्यम की आवश्यकता नहीं होती है मतलब निर्वात में भी संचालित हो सकती हैं अयांत्रिक तरंग एवं विद्युत चुंबकीय तरंगे कहलाती है”

यांत्रिक तरंगों के संचरण के लिये किसी माध्यम की आवश्यकता होती है, लेकिन यांत्रिक तरंगों के अतिरिक्त कुछ तरंगें ऐसी भी हैं, जिनके संचरण के लिये किसी माध्यम की आवश्यकता नहीं होती तथा वे तरंगें निर्वात् (space) में भी संचरित हो सकती हैं। इन्हें विद्युत चुम्बकीय तरंगें कहते हैं ।

ये तरंगें चुम्बकीय एवं विद्युत क्षेत्रों के दोलन से उत्पन्न होने वाली अनुप्रस्थ तरंगें हैं। समप्रकाश तरंगें, अमीय विकीरण, एक्स (x) किरणें, रेडियो तरंगें आदि विद्युत चुम्बकीय तरंगों (Electromagnetic wave in hindi) के उदाहरण हैं।

सभी विद्युत चुम्बकीय तरंगें (wave meaning in hindi)एक ही चाल से चलती हैं तथा इनकी चाल प्रकाश की चाल के बराबर तीन लाख किलोमीटर प्रति सेकेण्ड होती है। इन तरंगों का तरंग दैर्घ्य परिसर (Electromagnetic wave meaning in hindi ) बहुत विस्तृत होता है। इनका परिसर 10^-14 मीटर से लेकर 10^4 मीटर तक होता है।

कुछ प्रमुख विद्युत चुम्बकीय तरंगे निम्न हैं-( types of Electromagnetic waves in hindi)-

गामा किरणें (y-rays)-

गामा किरणें की उत्पत्ति नाभिक से होती है। ये अत्यन्त लघु तरंग-दैर्ध्य परिसर की वैद्युत चुम्बकीय तरंगें हैं। इनकी तरंग दैर्ध्य 10^-10 मीटर से लेकर 10^-14 मीटर के बीच होती है।

इन किरणों में ऊर्जा की अत्यधिक मात्रा संचित रहती है, जिससे इनकी भेदन क्षमता अत्यधिक होती है। लोहे की मोटी चादरों को पार कर जाती है । गामा किरणों(gamma rays in hindi) के अवशोषण से कुछ नाभिकीय परिवर्तन भी किये जाते हैं।

एक्स किरणें (X-rays)-

एक्स किरणों की खोज रान्जन नामक वैज्ञानिक ने की थी। इनकी तरंग दैर्ध्य 10^-10 मीटर से लेकर 10^-8 मीटर तक होती है। मानव के लिये x-किरणे अत्यधिक उपयोगी हैं। शल्य क्रिया, X-किरण चिकित्सा, व्यवसाय, जासूसी, इन्जीनियरिंग आदि में इनका उपयोग किया जाता है।

पराबैंगनी तरंगें (Ultra-violet waves in hindi)-

पराबैंगनी विकरण की खोज रिटर (Ritter) ने की थी। इन तरंगों की तरंग दैर्ध्य 10^-8 मीटर से 10^-7 मीटर तक होती है। ये तरंग सूर्य के प्रकाश, वैद्युत विसर्जन (electric discharge), निर्वात स्पार्क आदि से उत्पन्न होती है।

दृश्य विकिरण (Visible radiation)-

दृश्य विकिरण को हम अपनी आँखों से देख सकते हैं। इसकी खोज न्यूटन ने की थी। दृश्य विकिरण का तरंग दैर्ध्य परिसर 4 x 10^-7 मीटर से लेकर 7.8 x 10^-7 मीटर तक होता है। दृश्य विकिरण में परावर्तन, अपवर्तन व्यतिकरण, विवर्तन, ध्रुवण, दृष्टि संवेदन (sense of sight) आदि गुण पाये जाते हैं।

ये विकिरण ताप दीप्ति (incandescent) वस्तुओं से उत्पन्न होते हैं। विकिरण के स्रोत सूर्य, तारे, ज्वाला, विद्युत बल्ब, आर्क-लैम्प आदि हैं।

अवरक्त किरणें (Infra-red rays)-

इन किरणों की खोज विलियम हरशैल ने 1940 में की थी। इनके तरंग दैर्ध्य का परिसर 7.8 x 10^-7 मीटर से लेकर 10^-3 मीटर तक होता है।

ये तरंगें(wave in hindi) पदार्थों को उच्च ताप पर गर्म करने पर निकलती हैं। इन किरणों की वेधन शक्ति अधिक होने के कारण ये घने कोहरे व धुश से पार निकल जाती हैं । युद्धकाल में इन किरणों का उपयोग दूर-दूर तक सिग्नल भेजने में किया जाता है।

इनका उपयोग- अस्पतालों में रोगियों की सिकाई करने व कुहरे में फोटोग्राफी करने में भी होता है।

हर्ज या लघु रेडियो तरंगे (lertain or short radio
waves in hindi)-

इन तरंगों की खोज विलियम हर्ज ने 1888 में की थी। इन तरंगों का तरंग दैर्ध्य परिसर 10-3 से 1 मीटर तक होता है। इस परिसर में 10-3 मीटर से 10-2 मीटर तरंग दैर्ध्य की तरंगें सूक्ष्म तरंगें (micro waves) कहलाती हैं। इनका उपयोग टेलीविजन, टेलीफोन आदि के प्रसारण में किया जाता है।

वायरलैस या दीर्घ रेडियो तरंगें (Wireless or लॉन्ग radio waves in hindi)-

इन तरंगों की खोज मर्कोनी ने 1896 में की थी। इनकी तरंगदैर्ध्य परिसर 1 मीटर से लेकर 10 मीटर तक होता है। ध्वनि तरंगें (Sound waves)–ध्वनि तरंगें अनुदैर्ध्य यांत्रिक तरंगें होती है। यांत्रिक तरंगें विभिन्न आवृत्तियों की हो सकती हैं।

जिन तरंगों की आवृत्ति 20 हर्ट्ज से 20,000 हर्ट्ज के बीच होती है, उनकी अनुभूति हमें अपने कानों द्वारा होती है और उन्हें हम ध्वनि के नाम से पुकारते हैं। जिन यांत्रिक तरंगों की आवृत्ति इस सीमा से कम या अधिक होती है, उनको अनुभूति हम अपने कानों से नहीं कर सकते हैं।

जब कोई ध्वनि स्रोत दोलन करता है, तो उसके सम्पर्क में वायु कण अपनी साम्य स्थित के दोनों ओर दोलन करने लगते हैं। इससे वायु में संपीडन तथा विरलन की अवस्थायें उत्पन्न होकर वायु में तरंगें (wave meaning in hindi)संचरित होने लगती हैं।

जब ये तरंगें वायु में चलकर कान के पर्दे पर पहुँचती हैं, तो कान का पर्दा दोलन करने लगता है तथा ध्वनि सुनाई देने लगती है। इस प्रकार ध्वनि तरंगें(wave in hindi) दोलन कर रहे किसी स्रोत से उत्पन्न होती हैं।

ध्वनि तरंगों का आवृत्ति परिसर (Frequency range of sound) यांत्रिक तरंगों को उनके आवृत्ति परिसर के आधार पर मुख्यतः तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है-

(1) श्रव्य तरंगें (Audible Wave in hindi)-

श्रव्य तरंगें वे याँत्रिक तरंगें हैं, जिनकी आवृत्ति का परिसर 20hertz से लेकर 20,000 हर्ट्ज तक होता है। इन तरंगों को हमारा कान सुन सकता है। 20 हर्ट्ज से कम आवृत्ति की तरंगे कान के पर्दे को संवेदित नहीं कर पाती, जिससे वे सुनाई नहीं देती तथा 20,000 हर्ट्ज से अधिक आवृत्ति की तरंगों की आवृत्ति इतनी अधिक होती है कि कान के पर्दे का दोलन इतना अधिक नहीं हो पाता कि वह इन तरंगों को ग्रहण कर सके। फलतः ये तरंगें(wave in hindi) भी हमें सुनाई नहीं देती।

अतः श्रव्य तरंगें वे तरंगें(wave meaning in hindi)है, जिनकी न्यूनतम आवृत्ति 20 हर्ज व अधिकतम आवृत्ति 20,000 हर्ट्ज है व जिनको हम सुन सकते हैं।

(2) अवश्रव्य तरंगें (Infrasonic wave in hindi)-

अवश्रव्य तरंगें दे यांत्रिक तरंगे है, जिनको आवृत्ति 20 हजं से कम होती । है। ये तरंगें(wave in hindi) हमें सुनाई नहीं देती हैं। ये तरंगे के समय पृथ्वी के अंदर उत्पन्न होती है हमारे दिल की धड़कन की आवृत्ति अवश्रव्य तरंगें जैसी ही होती है।

(3)पराश्रव्य तरंगें (Ultrasonic wave meaning in hindi)-

जिन तरंगों की आवृत्ति 20000 हटा से ऊपर होती है उसे पराश्रव्य तरंगें (Ultrasonic wave) कहते है। पराश्रव्य तरंगें (Ultrasonic wave) को चमगादर और कुत्ते सुन सकते हैं

यह article “तरंग(Wave in hindi)किसे कहते है। यह कैसे बनती है तरंग के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी-Wave meaning in hindi” पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।