पढ़ने के लिए Time table कैसे बनाये? (Time table in hindi)

You are currently viewing पढ़ने के लिए Time table कैसे बनाये? (Time table in hindi)

Time table एक ऐसा इन एक्सपेंसिव टूल है जो हमेशा से Proper Study रूटीन बनाने में इफेक्टिव रहा है। यह सिम्पल सा time table Study के हर एरिया को कवर करता है। बहुत लिमिटेड टाइम में हर एरिया के टास्क को complete करते रहने के लिए encourage करता है।

इसकी बदौलत पढ़ाई से ध्यान भटक नहीं पाता और जिस फोकस की जरूरत होती है वो सही जगह पर बना रहता है। इसलिए हर Students को time table जरूर बनाना चाहिए और इसीलिए आज के इस Article में हम आपको बता रहे है कि अपना time table बनाते टाइम आपको किन important बातों को ध्यान में रखना चाहिए ताकि time table पढ़ाई में आपकी Help कर सके। इसलिए इस Article को पूरा जरूर पढ़े।

Read this-पढ़ाई के रोचक तथ्य की जानकारी- study fact in Hindi

Time Table importants tips1

important Dates और डेडलाइन को नोट करें। सबसे पहले आप अपनी सभी Points Dates को नोट डाउन कीजिए जिनमें कैट में कोई सोशल कमिटमेंट शामिल हो जैसे periods असाइनमेंट डेडलाइन स्पोर्ट्स एक्ससाइज बॉडीज और लोकेशन। तो इन्हें नोट डाउन करने से आप Study टाइम में से कुछ टाइम अलग कर लेंगे। जब आप पूरे समय देना होगा और आप भी तय कर पाएंगे कि इन event को आप पूरा दिन देना चाहेंगी या कुछ वक्त में भी इन्हें पूरा किया जा सकता है ताकी Study पर ज्यादा अफेक्ट ना पड़े।

Time Table tips2

आपका syllabus कवर करने में आपको कितना टाइम लगेगा और किन सब्जेक्ट्स को ज्यादा टाइम देने की जरूरत है ये सब पता लगाने के बाद ही time table बनाना सही होगा। इसलिए syllabus को अच्छी तरह समझकर ही time table बनाएं।

Read this-Genius का हिंदी मतलब क्या है। Genius कैसे बने (Genius meaning in Hindi)

Time table tips3

time table में केवल सब्जेक्ट्स को ही जगह ना दें। रिसर्च बताती हैं कि फिजिकली एक्टिव Students इफेक्टिव तरीके से Study कर पाती हैं। इसलिए अपने Time table में सब्जेक्ट्स Topic और एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज को mention करने के अलावा इसमें आउटडोर गेम्स और वन टाइम को भी जगह दीजिए ताकि आप Study के लिए एक्टिव और एनर्जेटिक रह सके।

Time table tips4

एक दिन के लिए एक ही सब्जेक्ट ना चुनें। एक सिंगल सब्जेक्ट को लंबे टाइम तक पढ़ते रहना बहुत मुश्किल और बोरिंग हो सकता है इसलिए हर दिन आपके पास सब्जेक्ट्स की वराइटी होनी चाहिए ताकि आपको बोरियत ना हो और एक फिक्स टाइम एक सब्जेक्ट को देने के बाद आप दूसरा सब्जेक्ट Study कर सकें। तब सब्जेक्ट्स के लिए आप ग्रुप Study का आप्शन लेने वाले हो तो उसे भी time table में मेंशन कर लें।

Read this-मनोविज्ञान क्या है,मनोविज्ञान के बारे में बेसिक जानकारी- Meaning of psychology in Hindi

Time table no5

बोरिंग time table ना बनाएं। अब हर दिन अपनी पढ़ाई की शुरुआत और रीडिंग Time table से करेंगे। ऐसे में अगर आप सिर्फ एक बोरिंग चार्ट Table बनाकर उसमें बहुत सारी इन्फॉर्मेशन भरने की सोच रहे हैं तो ऐसा ना करें। इसकी बजाय आप अच्छे से कलरफुल शीट पर अलग अलग कलर से सब्जेक्ट्स और Topic को लिखिए। important टास्क को हाइलाइट करें और टफ टास्क complete करने पर रिवॉर्ड का आप्शन भी रखें।

आप चाहे तो उस पर कुछ पॉजिटिव कोट्स भी लिख सकते हैं जो आपको इनकरेज कर सके। इन छोटे छोटे एप्रोच में मैजिकल इफेक्ट होता ही आपको अट्रैक्टिव time table बनाकर पता चल जाएगा।

Time table no6

कि time table को सीरियसली follow करें। लाइफ में ज्यादा सीरियस होना अच्छा नहीं होता लेकिन जो आपकी लाइफ बना सकता हो उसके लिए तो सीरियस होना बनता है।

यानी आपके Time table को सीरियसली ही follow किया जाना चाहिए ताकि आप स्टेप बाई स्टेप हर टास्क को complete करते जाएं। हर Topic और सब्जेक्ट कवर करते जाएं रिविजन पॉसिबल हो पाए और आप हर क्लास में वो पोजिशन बना पाए जो आप खुद से एक्सपेक्ट करते हैं इसलिए अपने time table पर टिके रहिए और उसे follow कीजिए। अपने time table को बीच बीच में आप चेक करते रहिए कि क्या वो इफेक्टिव काम का है।

अगर इसी चेंजेस की जरूरत है तो बिना स्ट्रेस लिए इसे आसानी से मॉडिफाई कर लीजिए और उसे follow कीजिए।

Read this-रिलेशनशिप के बारे मे 20 मनोवैज्ञानिक तथ्य -20 psychology facts in hindi

Time table no7

डिप्रेशन को दूर करना भी सीखिए। अगर आपको Time table से fast रिजल्ट नहीं मिल रहे हैं तो ये भी चेक कर लीजिए कि क्या आप उसके level कि पढ़ाई कर रहे हैं या फिर वो केवल आपकी Study Table पर रखा है या दीवार पर चिपका हुआ है। पर अब अपने स्मार्टफोन में बिजी रहते हैं यानि time table भी आपकी Help तभी करेगा जब आप अपनी Help खुद करेंगे और सारे इंस्ट्रक्शंस को अपनी Study एरिया से दूर रखेंगे जैसे कि फोन टीवी नॉइस।

Time table no8

Time table के अकॉर्डिंग चलना आपकी Habits बन जानी चाहिए जो कि वाकई मुश्किल है लेकिन नामुमकिन नहीं। अब Habits चाहे अच्छी हो या बुरी उसमें ढलने में थोड़ा टाइम तो लगता है तो फिर ये तो time table है जो आपको यहां वहां घूमने और बेवजह फोन में लगे रहने से रोकेगा। ऐसे में आप इसे तुरंत पसंद नहीं कर पाएंगे लेकिन कोई बात नहीं अब ये तो जानते हैं ना कि असल में ये दोस्ती आपको सही परीक्षण दिखाएगा। इसलिए बिना कुछ सोचे और बनाए से डाले बस follow करते जाइए। कुछ ही दिन में आप देखेंगे कि time table के अकॉर्डिंग चलना आपकी आदत बन चुकी है और अब आपने सही ट्रैक पकड़ लिया है।

Time table no9

स्कूल टाइमिंग के अकॉर्डिंग time table बनाइए। आपके स्कूल और स्कूल time table में ऐड ना करें बल्कि दिन के बाकी बचे समय को ध्यान में रखते हुए ही time table को तैयार करें। अब हर सब्जेक्ट को टाइम दे सकें।

Time table no10

आपका time table रियलिस्टिक और फ्लेक्सिबल हो। अपने time table में बड़े बड़े टास्क लिख देना तो बहुत आसान काम है लेकिन उन्हें पूरा करना अगर पॉसिबल नहीं है तो उनका कोई फायदा आपको नहीं मिलने वाला बल्कि हो सकता है कि आप डिस्प्यूट हो जाएं निराश हो जाए। इससे बचने के लिए time table में ऐसे रियलिस्टिक टास्क लिखे जिन्हें पूरा कर सकते हैं। इसके साथ साथ आपके time table में फ्लेक्सिबिलिटी भी होनी चाहिए ताकि किसी दिन अचानक कोई चेंज करना पड़े तो आप पैनिक ना करें और अपसेट तो आप बिल्कुल भी ना हो।

Read this-सौरमंडल किसे कहते हैं सम्पूर्ण जानकारी हिंदी मे -About Solar system hindi

हमने क्या सीखा

दोस्तों इस आर्टिकल मे हमने जाना Time table in Hindi क्या होता है। Time table कैसे बनाये । Time table जुड़े हमें जितनी भी जानकारी प्राप्त हुई। उसे हमने आपके सामने प्रस्तुत किया है। अगर आपके मन में इस आर्टिकल से संबंधित कोई डाउट है। तो आप बेफिक्र होकर हमें कमेंट या ईमेल कर सकते हैं।

यह article “पढ़ने के लिए Time table कैसे बनाये? (Time table in hindi)“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।