Subconscious mind या अवचेतन मन क्या है, परिभाषा,शक्ति (conscious and subconscious mind in Hindi)

You are currently viewing Subconscious mind या अवचेतन मन क्या है, परिभाषा,शक्ति (conscious and subconscious mind in Hindi)

हमारे दिमाग के अंदर जो दुनिया है वह सच में रहस्य से भरी हुई है। जिसे आज भी इंसान सही से समझ नहीं पाया है। इस दुनिया में असीमित जानकारियां store होती रहती है। दिमाग का एक हिस्सा जिसे हम अवचेतन मन कहते हैं। यह हमारे पल पल को कंट्रोल करता है। अगर आप इसे समझ गए तो दुनिया में कुछ भी हासिल से कर सकते हैं।

आज हम आपको अवचेतन मन के बारे में बताने वाले हैं। जिस इंग्लिश में subconscious mind भी कहा जाता है। हमारे इस subconscious mind की शक्ति हमारे विचार से भी ज्यादा है। हमारा अवचेतन मन एक बहुत बड़े मेमोरी बैंक की तरह है। जिसकी क्षमता असीमित है और इसके अंदर आपके साथ घटने वाली हर चीज को store किया जाता है।

Read this-Mind या मन का मतलब क्या है। यह कैसे काम करता है(Mind meaning in hindi)

Conscious mind या चेतन मन क्या है।

दोस्तों हमारे दिमाग के दो स्तर हैं (1) conscious mind (2) subconscious mind

Conscious mind हमारे दिमाग का 10% हिस्से को कंट्रोल करता है। जब भी हम कोई भी कार्य पहली बार करते हैं। तो उसे conscious mind द्वारा ही किया जाता है। जैसे-पहली बार साइकिल चलाना, पहली बार बाइक चलाना, पहली बार कुछ नया सीखना, पहली बार पढ़ना आदि…यह सभी घटनाएं हमारे conscious mind द्वारा ही होती है। बाद में यह एक आदत बन कर हमारे subconscious mind मे store हो जाती है।

यहाँ store हुई सभी यादें हमारे लिए प्रोग्राम की तरह काम काम करती है। जब भी हम कोई चीज सोचते हैं। या कुछ नया सीखते है। यह सभी चीझे हमारे चेतन मन के द्वारा होती है। बार-बार एक ही काम को दोहराने पर यह सभी चीजें अवचेतन मन के पास चली जाती है। अवचेतन मन इसको आपकी आदत बना देता है। उसके बाद यह सभी चीजें आप अनायास ही करते हैं। जैसे- एक बार किसी को कोई बुरी आदत लग गई। तो वह उसे बार-बार दोहराता रहता है।

Read this-Mature का हिन्दी मतलब क्या है, mature कैसे बने(About mature meaning in hindi)

Subconscious mind या अवचेतन मन क्या है

यह हमारे दिमाग का एक बड़ा ही विचित्र हिस्सा है। जो हमेशा वैज्ञानिकों को आश्चर्यचकित करता आया है। इसकी शक्तियां असीमित है। लगभग हमारे दिमाग का 90% हिस्सा को अवचेतन मन ही कंट्रोल करता है। हमारे जीवन में घटने वाली सभी घटनाएं इस अवचेतन मन का ही परिणाम है। एक बार हमारे अवचेतन मन में जब कोई जानकारी फिट हो जाती है। फिर बिना चाहे हम उसे बार-बार करते हैं। हमारे अंदर उत्पन्न होने वाले डर,गुस्सा, विश्वास और भी बहुत सारी भावनाएं हमारे अवचेतन मन द्वारा ही उतपन्न है।

जब भी आप कुछ नया या अलग करने का प्रयास करते हैं। या फिर आप अपनी किसी आदत को बदलने का प्रयास करते हैं। तो आपका अवचेतन मन आपको भावनात्मक और शारीरिक रूप से असहज महसूस कराता है। मनोविज्ञान की मानें तो आपके अंदर डर और बेचैनी की भावना का आना यह संकेत है कि आपका subconscious mind सक्रिय हो गया है।

Read this-101 दिमाग हिला देने वाली पहेलियां और उनके जवाब(101 paheliyan in Hindi)

Subconscious mind की असीमित शक्तियां क्या है?

दोस्तों हमने आपको ऊपर बताया है subconscious mind मे असीमित शक्तियां हैं। आप जो कुछ भी सोचते हैं। वह पा सकते हैं। हमारा अवचेतन मन इतना ज्यादा शक्तिशाली है। अगर हम किसी चीज को बार बार सोचे। तो वह चीजें हमारे जीवन में घटित होने लगती है। यह कैसे संभव होता है चलिए इसे समझते हैं?

जब भी हम कुछ सोचते हैं हमारे दिमाग के आसपास छोटी-छोटी मैग्नेटिक फील्ड उत्पन्न होती है। यह मैग्नेटिक हमारे आसपास रहने वाले छोटे-छोटे कणों को प्रभावित करती है। और यह क्रिया निरंतर आगे बढ़ती जाती है। जिसका असर संपूर्ण ब्रह्मांड पर पड़ता है। फिर वह सभी चीज है जिसे आप बार बार सोचते हैं आपकी और आकर्षित होने लगती हैं। quantum physics की माने तो subatomic level पर particles हमारे सोचने मात्र से प्रभावित होने लगते हैं। इसका जीता जागता उदाहरण- double slit experiment है। जिसे सबसे पहले thomas young द्वारा किया गया। और बाद में आने वैज्ञानिकों ने इसकी सत्यता को प्रमाणित किया।

Subconscious mind या अवचेतन मन काम कैसे करता है?

दोस्तों आगे हम अपने दिमाग की बहुत गहराई वाले हिस्से में जाने वाले हैं। और यह समझेंगे कि कैसे हमारा अवचेतन मन हमारे चेतन मन के ऊपर हावी हो जाता है। और हमसे वह सभी चीजें करवाता हैं जो हम नहीं करना चाहते हैं।

जब भी हम कुछ नया करते है। यह चीजे हमारे दिमाग मे एक neural circuit बनाती है। एक ही काम को बार-बार दोहराने पर यह neural circuit मजबूत होते जाते है। और फिर बाद में हमारी आदत बन जाती हैं।फिर हम ना चाहते हुए भी इसे बार-बार करते हैं। क्योंकि ऐसा करने के लिए हमारा अवचेतन मन हमें आदेश देता है। हमें पता भी नहीं होता कि हम ऐसा क्यों कर रहे हैं। इसीलिए किसी भी चीज को अपनी आदत बनाने से पहले सोच लीजिए वह आपके लिए सही होगा या नहीं। क्योंकि एक बार वह आदत आपके अवचेतन मन के कंट्रोल में आ गई। तो उसे बदलना आपके लिए बड़ा ही मुश्किल हो जाएगा। हमारे अवचेतन मन के पास ऐसी शक्तियां हैं अगर आप किसी चीज को बार बार सोचते हो। हमारा अवचेतन मन उसे बहुत ही जल्द आपके लिए पूरा कर देगा। इसलिए हमेशा अच्छी चीजें सोचें।

Read this-पृथ्वी ग्रह के बारे में संपूर्ण जानकारी(About earth in hindi)

Subconscious mind या अवचेतन मन को कैसे प्रयोग में लाएं?

मनुष्य का सुन्दर, बलवान शरीर और विवेकवान मस्तिष्क ईश्वर ने जीवन को महान बनाने के लिए ही बनाया है। जिस वस्तु या मनुष्य की चाह आप अपने मन में करते हैं, आपके मन की सभी शक्तियां उस ओर खिंच जाती हैं और अपने आकर्षण से उसे प्राप्त कर लेती हैं। यही मनोवैज्ञानिक भी कहते हैं। यदि किसी युवक का मन विलासिता की ओर है, तो हम देखते हैं कि वह नाचघर,सिनेमाघर अथवा सैलून आदि स्थानों की ओर ही जाएगा। हर तरीके से वह अपने मनोरंजन की इच्छाओं को पूरा करता है।

इसके विपरीत यदि किसी युवक की इच्छा विद्वान या लेखक बनने की है, तो वह उसे प्राप्त करने के लिए
पुस्तकालय में जाएगा या विद्वानों के बीच में रहेगा।उदाहरण के लिए जब कोई व्यक्ति विदेश में जाता है तो थोड़े ही दिनों में वहां उसके मित्र बन जाते हैं। यदि दस हजार व्यक्ति दूसरे-दूसरे शहरों से लाकर न्यूयार्क की खुली सड़कों पर छोड़ दिए जाएं, तो हमें आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि शीघ्र ही उनमें से कुछ तो जुआघरों में मिलेंगे और कुछ कलाकारों, संगीतकारों अथवा धार्मिकों या चोरों के बीच में।) इसका अर्थ यह हुआ कि मनुष्य का मन चुम्बक के समान है और वह अपनी इच्छित वस्तु को अपनी ओर आकर्षित कर उसे प्राप्त कर लेता है, परिस्थितियां चाहे जैसी हों।

जो भी व्यक्ति अपने सपनों पर अटूट विश्वास लेकर आगे बढ़ते हैं, सफलता सदैव उनका द्वार खोल देती है। उदाहरण के लिए जब एक शिल्पी किसी भवन के नक्शे को सामने रखता है तो वह सिर्फ एक कागजी भवन होता है, लेकिन भवन के उस नक्शे का मूर्त रूप वह अपने मन की कल्पनाओं में दृढ़ कर लेता है।

पहले उसे अपने मन में बना लेता है और इसी विश्वास के बल पर वह उस कागज के भवन को मूर्त रूप दे देता है। जो कुछ हम करने जा रहे हैं. पहले उसे अपने मन में कर लें। ठीक इसी तरह हमारे जीवन का भवन भी हमारे मन ही
में मूर्तिमान होता है। एक युवक जब काम की तलाश में अपने गांव से शहर की ओर चला तो उसके मन में धनवान बनने की इच्छा थी। लेकिन शहर में उसे काम मिला अखबार बेचने का परन्तु उसने अपने जीवन का लक्ष्य तो धनवान बनने का बना लिया था।

वह अपने लक्ष्य को पाने के लिए परिश्रम करता गया और उसने अखबारों की दुकान बना ली। धीरे-धीरे उन्नति करता हुआ आगे बढ़ता रहा। दिन-रात वह अपनी उन्नति के बारे ही में सोचता। वह अखबार बेचने की दुकान से ही सन्तुष्ट नहीं हुआ बल्कि कॉलेज में पढ़ने भी जाता, जिसका परिणाम यह हुआ कि वह युवक एक दिन उस शहर का धनी-मानी व्यापारी बन गया।

यद्यपि धनवान बनने की इच्छा कोई ऊंची नहीं है, लेकिन उस युवक का उदाहरण यह सिद्ध करता है कि परिश्रम और इच्छाशक्ति के बल पर कोई भी व्यक्ति अपने विश्वासों के सहारे सफलता प्राप्त कर सकता है।

Read this-Genetics का हिंदी मतलब क्या है,परिभाषा(About Genetics meaning in hindi)

हमने क्या सीखा

दोस्तों इस आर्टिकल मे हमने जाना subconscious mind and conscious mind in Hindi क्या होता है। subconscious mind कैसे काम करता है, subconscious mind की शक्तियां क्या है। चेतन और अवचेतन मन से जुड़े हमें जितनी भी जानकारी प्राप्त हुई। उसे हमने आपके सामने प्रस्तुत किया है। अगर आपके मन में इस आर्टिकल से संबंधित कोई डाउट है। तो आप बेफिक्र होकर हमें कमेंट या ईमेल कर सकते हैं।

यह article “Subconscious mind या अवचेतन मन क्या है, परिभाषा,शक्ति(conscious and subconscious mind in Hindi)“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।