मानव आँख क्या है, कैसे काम करता है, आँख के बारे मे बेसिक जानकरी-About eye in hindi

You are currently viewing मानव आँख क्या है, कैसे काम करता है, आँख के बारे मे बेसिक जानकरी-About eye in hindi

आंख शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। जिसकी सहायता से हमें वस्तुओं को देखते है। आँख (About eye in hindi)एक camera की भाँति कार्य करती है। आँख बाहर से एक कठोर व अपारदर्शी श्वेत झिल्ली से ढकी होती है। इस श्वेत झिल्ली को दृढ़पटल (Sclerotic) कहते हैं । दृढ़पटल के सामने का भाग कुछ उभरा हुआ होता है ।

इस भाग को कार्निया कहते हैं। कार्निया के पीछे एक पारदर्शी द्रव भरा होता है जिसे नेत्रोद (Aqucous humour) कहते हैं। कार्निया के ठीक पीछे एक पर्दा होता है। जिसे आइरिस (Iris) कहते हैं।

आइरिस के बीच में एक छेद होता है। इसे आँख की पुतली (Pupil) कहते है। आइरिस का कार्य आँख(About eye in hindi) में जाने वाले प्रकाश की मात्रा को नियंत्रित करना होता है। अधिक प्रकाश में यह सिकुड़कर छोटा हो जाता है तथा अंधेरे या कम प्रकाश में फैल जाता है।

नेत्र में यह क्रिया स्वत: होती रहती है। पुतली के पीछे नेत्र लेंस स्थित होता है। इसके द्वारा बाहरी वस्तुओं का उल्टा, छोटा व वास्तविक प्रतिबिम्ब लेंस के पीछे दृश्य-पटल (Retina) पर बनता है।

नेत्र लेंस पक्ष्माभिकी पेशियों (Cilliary muscles) के निलंबन स्नायुओं (Suspensory ligaments) द्वारा लटका रहता हैं । ये पेशियाँ लेंस पर दाब डालकर उसके पृष्ठों की वक्रता को घटाती-बढ़ाती रहती हैं। इस प्रकार लेंस की फोकस दूरी कम-ज्यादा होती रहती है।

लेंस के पीछे एक पारदर्शी द्रव भरा होता है, जिसे कॉचाभ द्रव(Vitreous humour) कहते हैं। यह द्रव गाढ़ा, पारदर्शी व उच्च अपवर्तनाँक का होता है । दृढ़ पटल के नीचे अन्दर की ओर एक काली झिल्ली होती है। इसे रक्तक पटल (Choroid) कहते हैं। रक्त का पटल प्रकाश का अवशोषण कर लेता है, जिससे नेत्र गोलक(eye in hindi) के अन्दर प्रकाश का परावर्तन नहीं होता ।

रक्त के पटल के नीचे, नेत्र के भीतर एक पारदर्शी झिल्ली पर विशेष प्रकार की तंत्रिकाओं के सिरे होते हैं। इन पर प्रकाश पड़ने से संवेदन उत्पन्न होते है। ये संवेदन तंत्रिकाओं के समूह दृष्टि-तंत्रिका (optic nerve) के द्वारा मस्तिष्क तक पहुँचते है।

किसी वस्तु से चलने वाली प्रकाश किरणें कार्निया तथा नेत्रोद से गुजरने के बाद लेंस पर आपतित होती है तथा इससे अपवर्तित होकर काँचाभ द्रव से होती हुई रेटिना पर पड़ती हैं। रेटिना पर वस्तु का उल्टा एवं वास्तविक प्रतिबिम्ब बन जाता है।

प्रतिबिम्ब बनने का संदेश दृश्य तन्त्रिकाओं द्वारा मस्तिष्क तक पहुँचता है व वस्तु हमें दिखायी देने लगती है। यद्यपि रेटिना पर बना वस्तु का प्रतिबिम्ब उल्टा होता है। लेकिन हमें यह सीधा अनुभव होता है।

आंख के बारे में रोचक तथ्य( interesting fact about Eyes)

1) बाहर से देखने पर हमें हमारे नेत्र गोलक का 1/6 हिस्सा ही दिखाई देता है।

2) अगर आप मोबाइल कंप्यूटर या फिर टीवी के बहुत ज्यादा शौकीन है, और पूरा दिन इन्हीं के साथ बितता है तब आपके आंखों में सूखापन की समस्या हो सकती है।

3) अपने कई फिल्मों में देखा होगा किसी पासवर्ड को खोलने के लिए लोग Eye scene का भी प्रयोग करते हैं, ऐसा इसलिए क्योंकि हमारी आंखों में 256 यूनिक पैटर्न होते हैं। जबकि हमारे fingerprints मे केवल 40 पैटर्न होते हैं।

4) हमारी आंखें अंधेरे में 2.7 किलोमीटर दूर रखी जलती हुई मोमबत्ती को भी देख सकती हैं।

5) हमारे पूरे जीवन काल में हम जो कुछ भी सीखते हैं उसका 80% योगदान हमारी आंखों को जाता है।

6) क्या आपको पता है आंखें खोल कर छींकना असंभव है अगर आप आंखें खोलकर छींक रोकने की कोशिश करेंगे। तब आपका आईबॉल भी बाहर आ सकता है।

7) दोस्तों जब हम किसी चौकानेवाले चीज को देखते हैं, तब उस समय हमारी आंखें 45 % ज्यादा फैल जाती है।

8) हमारे एक आंख का वजन लगभग 8 ग्राम होता है।

9) दोस्तों हम अपने पूरे दिन का लगभग 10% भाग केवल आंखें जब गाने में बिता देते हैं।

10) हमारे शरीर में आंखें ही एक ऐसी चीज है जो जन्म से लेकर मृत्यु तक सदा बराबर रहती है।

11) दोस्तों हम केवल तीन ही रंग देख सकते हैं नीला लाल और हरा बाकी सारे रंग इन्हीं तीनों रंगों से मिलकर बने होते हैं। इन्ही तीन रंगों की मदद से हमारी आंखें एक करोड़ रंगों को पहचान सकते हैं।

12) हमारे दिमाग का 65% ऊर्जा तो केवल आंखें इस्तेमाल करती है क्योंकि पूरा समय हमारा दिमाग आंखों को संभालने में लगा रहता है।

13) वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दें आंखों का रंग melalin पर निर्भर करता है। यह एक प्रकार का रसायन होता है। दुनियाभर में जिन लोगों की आंखें निली होती है उनमे इस रसायन की मात्रा अधिक होती है।

14) आपने कई बार देखा होगा रोने पर लोगों की नाक बहने लगती है ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आंसू नाक कि रास्ते रिसने लगती है।

15) आपने गिरगिट का नाम जरूर सुना होगा इसे इंग्लिश में chameleon कहते हैं। यह जीव एक ही समय पर दो अलग-अलग दिशाओं में देख सकता है।

यह article “मानव आँख क्या है, कैसे काम करता है, आँख के बारे मे बेसिक जानकरीAbout eye in hindi ” पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।