Soil का मतलब क्या होता है? Soil के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी(Soil meaning in hindi)

You are currently viewing Soil का मतलब क्या होता है? Soil के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी(Soil meaning in hindi)

मिट्टी का मतलब (Soil meaning in hindi)

पृथ्वीतल की ऊपरी सतह, जिसमें पेड़-पौधे उगाए जाते हैं, मिट्टी (soil) कहलाती है। मिट्टी एक प्राकृतिक संसाधन है, जो अनेक अवयवों का एक जटिल मिश्रण होता है। इसका अधिकांश भाग पत्थर के सूक्ष्मकणों का बना होता है।

मिट्टी के प्रमुख अवयव(About Soil meaning in hindi)

  1. जल-मिट्टी के कणों के बीच रिक्त स्थानों में और उनकी बाहरी सतह पर जल उपस्थित रहता है।
  2. वायु-मिट्टी के कणों के बीच स्थित रिक्त स्थान रंध्र (pores) कहलाते हैं, जिनमें जल के साथ-साथ वायु भी भरी रहती है। इसी वायु में पौधे की श्वसन क्रिया चलती रहती है।
  3. कार्बनिक पदार्थ-मृत जीवों (जैसे पेड़-पौधे, जीव-जंतु और जीवाणु) के सड़ने से मिट्टी में कार्बनिक पदार्थ आ जाते हैं,जिन्हें डूमस (humus) कहा जाता है। ह्यमस मिट्टी को नाइट्रोजनएवं फॉस्फोरस प्रदान करता है।
  4. अकार्बनिक पदार्थ-जिन पत्थरों से मिट्टी का निर्माण होताहै, उनमें उपस्थित अकार्बनिक पदार्थ भी मिट्टी में मिश्रित हो जाते हैं। रासायनिक खाद एवं उर्वरक के प्रयोग से भी मिट्टी में अकार्बनिक पौष्टिक तत्त्व आ जाते हैं।
  5. खनिज-मिट्टी में उपस्थित खनिज पदार्थ पौष्टिक तत्त्व (nutrients) कहलाते हैं, जो पौधों की वृद्धि और विकास मेंसहायक होते हैं। इनमें हाइड्रोजन, ऑक्सीजन, नाइट्रोजन,फॉस्फोरस, पोटैशियम, कैल्सियम, मैग्नीशियम और लोहा,ताँबा, जस्ता आदि प्रमुख हैं।

मिट्टी का निर्माण(Formation of soil meaning in hindi)

पत्थर के अपक्षयन (weathering of rocks) से मिट्टी का निर्माण होता है। पत्थर के अपक्षयन के निम्नांकित कारण हैं।

सूर्य के ताप का प्रभाव-

दिन में सूर्य पत्थर को गर्म करता है, जिससे वे प्रसारित हो जाते हैं। रात के समय पत्थर ठंडा हो जाने से संकुचित हो जाते हैं। पत्थर का प्रत्येक भाग असमान रूप दरारें आ से प्रसारित तथा संकुचित होता है, जिससे पत्थर जाती हैं और ये बड़े पत्थर टूटकर छोटे-छोटे कणों में विभाजित हो जाते हैं।

जल का प्रभाव-

About Soil meaning in hindi-जल दो प्रकार से मिट्टी का निर्माण करता है।

(i) सूर्य के ताप से बने पत्थरों की दरारों में जल समा जाता है और ठंडा होने के पश्चात यह जल पत्थर की दरारों में जम जाता है। जल के जमने से आयतन में वृद्धि होती है, जिसके फलस्वरूप दरार और अधिक चौड़ा हो जाता है और भूस्खलन (landslide) होता है।

(ii) तेज गति से बहता हुआ जल अपने साथ बड़े और छोटे पत्थरों को बहाकर ले जाता है। ये पत्थर दूसरे पत्थरों के साथ टकराकर छोटे-छोटे कणों में टूट जाते हैं। इन कणों को जल अपने साथ बहा ले जाता है और दूसरे स्थान पर छोड़ देता है।

वायु का प्रभाव-

वायु भी जल की तरह पत्थर के सूक्ष्मकणों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाती है, जिससे मिट्टी का निर्माण होता है। इस प्रकार पत्थर के बड़े-बड़े टुकड़ों का सूक्ष्म कणों में टूटने की प्रक्रिया को त्रातु-प्रहार या अपक्षयन (weathering) कहते हैं।

मिट्टी का 90% भाग अपक्षयन (weathering) से प्राप्त सूक्ष्मकण होते हैं। इसमें सड़े-गले पौधों और जानवरों के टुकड़े भी मिले होते है, जिसे हमस (humus) कहा जाता है। इसके अतिरिक्त मिट्टी में विभिन्न प्रकार के सूक्ष्मजीव भी मिले होते हैं।

मिट्टी के गुण को उसमें स्थित ह्यमस की मात्रा और पाए जानेवाले सूक्ष्मजीवों के.आधार पर जाना जाता है। हमस मिट्टी को सरंध्र (porous) बनाता है, जिससे वायु और जल को भूमि के अंदर जाने में सहायता मिलती है। पत्थरों से मिट्टी में कई प्रकार के खनिज पोषक तत्त्व भी आ जाते हैं।

मिट्टी के प्रकार(Type of soil)

About Soil meaning in hindi-मिट्टी के कई प्रकार होते हैं जिनका निर्णय उनमें पाए जानेवाले कणों के औसत आकार द्वारा निर्धारित होता है। रेत (sand) में पाए जानेवाले कणों का आकार बड़ा होता है और कीचड़ (clay) में पाए जानेवाले कण सबसे छोटे होते हैं। गाद (silt) में पाए जानेवाले कणों का आकार रेत एवं कीचड़ के बीच का होता है।

पेड़-पौधों की उपज के लिए उपयुक्त मिट्टी दुम्मट(loam) कहलाती है। यह मिट्टी बालू, गाद और कीचड़ का मिश्रण होती है, जिसमें हमस और सूक्ष्मजीव भी पाए जाते हैं, जिनसे मिट्टी की उर्वरता बरकरार रहती है। किस मिट्टी पर कौन-सा पौधा लगाया जाए यह निर्भर करता है कि उस मिट्टी में पोषक तत्त्व क्या हैं, ह्यमस की मात्रा कितनी है और उसकी गहराई क्या है?

मिट्टी के कार्य(soil benefits)

(i) मिट्टी पौधों को यांत्रिक संरक्षण प्रदान करती हैं।
(ii) पौधों की जड़ें मिट्टी से ऑक्सीजन प्राप्त करती है। इसके लिए मिट्टी को समय-समय पर कोड़कर ढीली कर दी
जाती है।
(iii) पौधे अपने वृद्धि और विकास के लिए आवश्यक पौष्टिक तत्व मिट्टी से ही प्राप्त करते हैं।

यह article “Soil का मतलब क्या होता है? Soil के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी(Soil meaning in hindi)“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।