Network का हिन्दी मतलब क्या है। परिभाषा,प्रकार, उपयोग(Network meaning in hindi)

Network का हिन्दी मतलब क्या है। परिभाषा,प्रकार, उपयोग(Network meaning in hindi)

हेलो दोस्तों आज इस आर्टिकल में हम जानेंगे network क्या है। network meaning in Hindi क्या होता है। network कैसे काम करता है। types of network क्या है। साथ ही हम नेटवर्क से जुड़े विभिन्न घटकों के बारे में भी जानेंगे।

Read this-Multimedia का हिंदी मतलब क्या है,परिभाषा, उपयोग (Multimedia meaning in hindi)

Network क्या है?

नेटवर्क आपस में एक दूसरे से जुड़े कम्प्यूटरों का समूह है जो एक दूसरे से संचार स्थगापित करने तथा सूचनाओं, संसाधनों को साझा इस्तेमाल करने में सक्षम होते हैं। जैसे—प्रिंटर.इत्यादि । किसी भी नेटवर्क को स्थापित करने के लिए प्रेषक, प्राप्तकर्ता, माध्यम तथा प्रोटोकॉल.की आवश्यकता होती है। विश्व का प्रथम कम्प्यूटर नेटवर्क ARPANET है।

प्रोटोकॉल (Protocol) :

प्रोटोकॉल किसी भी नेटवर्क में विशेष नियमों तथा मानकों का.समूह है जिसके नियमानुसार डेटा स्थानान्तरण तथा आपस में एक दूसरे कम्प्यूटरों को जोड़ा जाता है।

नोड (Nodes) :

किसी नेटवर्क में नोड एक कनेक्सन प्वाइंट है जहाँ डेटा ट्रांसमिशन का अंत होता है या वहाँ से पुनः डेटा का वितरण होता है।

सर्वर (Server) :

सर्वर मुख्य कम्प्यूटर है जो नेटवर्क से जुड़ें दूसरे कम्प्यूटरों को रिसोर्सेस प्रदान करते हैं । यह नेटवर्क में सबसे महत्त्वपूर्ण तथा शक्तिशाली कम्प्यूटर है। सर्वर एक सेन्ट्रल कम्प्यूटर है जो बहुत सारे PCs, वर्कस्टेशन्स और अन्य कम्प्यूटरों के लिए डाटा और प्रोग्रामों के संग्रह को होल्ड करता है।

टर्मिनल (Terminal)

यह मेनफ्रेम या सुपर कम्प्यूटर के संसाधनों का साझा इस्तेमाल के लिए उपयोग होता है।

डम्ब टर्मिनल (Dumb Terminal)

यह नगण्य इंटेल्जेिंस वाला कम्प्यूटर है।

नेटवर्क के लिए आवश्यक उपकरण(Networking Devices)

नेटवर्क स्थापित करने के लिए मुख्य उपकरण निम्नलिखित हैं-

  1. रिपीटर्स (Repeaters)
  2. हब (Hub)
  3. स्विच (Switches)
  4. राउटर्स (Routers)
  5. गेटवे (Gateways)

नेटवर्क के प्रकार(Types of Network)

नेटवर्क के निम्नलिखित प्रकार हैं-

लोकल एरिया नेटवर्क (Local Area Network-LAN) या स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क :

यह एक कम्प्यूटर नेटवर्क है, जिसके अन्दर छोटे भौगोलिक क्षेत्र जैसे- घर, ऑफिस, भवनों का एक छोटा समूह या हवाई अड्डा आदि में कम्प्यूटर नेटवर्क है। वर्तमान लैन ईथरनेट तकनीकी पर आधारित है। इस नेटवर्क का आकार छोटा, लेकिन डेटा संचारण की गति तीव्र होती है।

वाइड एरिया नेटवर्क (Wide Area Network-WAN) व्यापक क्षेत्र नेटवर्क :

इस नेटवर्क में कम्प्यूटर आपस में लीज्ड लाइन या स्विचड सर्किट के द्वारा जुड़े रहते हैं। यह नेटवर्क व्यापक भौगोलिक क्षेत्र देश, महादेश में फैला नेटवर्क का जाल है। इंटरनेट इसका अच्छा उदाहरण है। भारत में CMC द्वारा विकसित इंडोनेट वैन का उदाहरण है। बैंकों द्वारा प्रदत्त ATM सुविधा वाइड एरिया नेटवर्क का उदाहरण है।

मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क (Metropolitan Area Network-MAN) :

MAN दो या दो से अधिक लोकल एरिया नेटवर्क को जोड़ता है। यह शहर की सीमाओं के भीतर स्थित कम्प्यूटरों का नेटवर्क है। राउटर्स, स्विच और हब्स मिलकर एक MAN का निर्माण करते हैं।

नेटवर्क टोपोलॉजी(Network Topology)

नेटवर्क टोपोलॉजी विभिन्न नोड्स या टर्मिनल को आपस में जोड़ने का तरीका है। यह विभिन्न नोड्स के बीच भौतिक संरचना को दर्शाता है।

नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार

मेस (Mesh) नेटवर्क :

यह नेटवर्क उच्च ट्रैफीक स्थिति में मार्ग (Routes) को ध्यान में रखकर उपयोग किया जाता है। इसमें किसी भी स्रोत (Source) से कई मार्गों से संदेश भेजा जा सकता है। पूर्णतः इन्टरकनेक्टेड मेस नेटवर्क खर्चीला है, क्योंकि इसमें ज्यादा केबल (Cable) तथा हर नोड में इंटेलिजेंस की आवश्यकता होती है। इस नेटवर्क में उच्च सुरक्षा अनुप्रयोग में डाटा प्रेषित किया जाता है।

स्टार (Star) नेटवर्क :

इस नेटवर्क में एक केन्द्रीय नोड (Central Node) होता है जो इंटेलिजेंस से युक्त होता है। बाकी नोड्स इससे जुड़े रहते हैं। इस केन्द्रीय नोड को हब (Hub) कहते हैं। कोई एक केबल (Cable) में कोई कठिनाई आने पर एक ही नोड विफल होता है परन्तु अगर हब में कोई कठिनाई आती है तो सारा नेटवर्क विफल हो जाता है।

रिंग (Ring) नेटवर्क :

इस नेटवर्क में सभी नोड्स में समान रूप से इंटेलिजेंस होता है। डेटा का प्रवाह हमेशा एक ही दिशा में होता है परन्तु किसी भी एक केबल या नोड में कठिनाई आने पर
दूसरे दिशा से संचार संभव है।

बस (Bus) नेटवर्क-

इस नेटवर्क में सभी नोड्स एक ही केवल में जुड़े रहते हैं। कोई भी नोड किसी दूसरे नोड को डेटा प्रेषित करना चाहता है तो उसे देखना होता है कि बस में कोई डेटा प्रवाहित तो नहीं हो रहा है। बस खाली रहने पर नोड डेटा
प्रेषित कर सकता है।

डेटा प्राप्त करने के लिए हर नोड के पास इतनी इंटेलिजेंस होनी चाहिए कि वह बस से अपने पता (address) ज्ञात कर डेटा प्राप्त कर सके। इसमें कम केबल की आवश्यकता होती है तथा कोई नया नोड जोड़ना आसान होता है। परन्तु प्रमुख ट्रांसमिशन लाइन में कठिनाई आने पर सारा नेटवर्क विफल हो जाता है।

हमने क्या सीखा

दोस्तों इस आर्टिकल मे हमने जाना Network kya hai, । Network कैसे काम करता है। Network meaning in Hindi क्या है। Network से जुड़े हमें जितनी भी जानकारी प्राप्त हुई। उसे हमने आपके सामने प्रस्तुत किया है। अगर आपके मन में इस आर्टिकल से संबंधित कोई डाउट है। तो आप बेफिक्र होकर हमें कमेंट या ईमेल कर सकते हैं।

यह article “Network का हिन्दी मतलब क्या है। परिभाषा,प्रकार, उपयोग(Network meaning in hindi)“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।

Leave a Reply