Talent का मतलब क्या होता है,Talent को कैसे ढूंढे,Talent क्या है(About Talent meaning in hindi)

You are currently viewing Talent का मतलब क्या होता है,Talent को कैसे ढूंढे,Talent क्या है(About Talent meaning in hindi)

हेलो दोस्तों आज इस आर्टिकल में हम समझेंगे talent meaning in Hindi क्या होता है। meaning of talent in Hindi क्या है। talent का मतलब क्या होता है। talent शब्द का उपयोग कब और किसके लिए किया जाता है। अपने अंदर छुपे talent के बारे में कैसे पता लगाएं। चलिए समझते हैं talent के बारे में,

Read this-Mature का हिन्दी मतलब क्या है, mature कैसे बने(About mature meaning in hindi)

Talent का मतलब-प्रतिभा, क्षमता, गुण, बुद्धि, विशेष योग्यता, प्रतिभावान व्यक्ति, कौशल क्षमता

Talent का मतलब क्या होता है।

दोस्तों आए दिन हमें talent शब्द कहीं ना कहीं जरूर सुनने को मिल जाता है। आपने किसी ना किसी को यह बोलते जरूर सुना होगा। कि उनका बच्चा बहुत talented है। अब आप सोच रहे होंगे इसका मतलब क्या होता है।

Talent या talented शब्द का उपयोग हम उन लोगों के लिए करते हैं। जो अपने क्षेत्र में प्रतिभावान या फिर गुणवान होते हैं। जैसे कोई बच्चा अपने क्लास में सभी से ज्यादा पढ़ने में तेज है। तब हम उसे talented की उपाधि दे सकते हैं। talent या फिर talented एक शब्द है जो दर्शाता है कि फलाना व्यक्ति अपने फील्ड का महारथी है।

अगर आपको कोई किसी बात पर talented बोल रहा है। इसका मतलब है कि आप उसमें बहुत अच्छे हैं। talented लोग अपने फील्ड में प्रतिभा संपन्न होते हैं। talent हर किसी के अंदर हर field में होता है। जैसे किसी का गाना-गाने में talent होता है, किसी का खाना बनाने का talent होता है, कोई पढ़ने लिखने में talented होता है। इसकी कोई सीमा नहीं है आप किसी भी फील्ड में talent हासिल कर सकते हो।

Read this-Attitude का मतलब क्या होता है, परिभाषा (Attitude meaning in hindi)

अपने अंदर छुपे talent को कैसे बाहर लाएं

दोस्तों हर एक इंसान एक खास talent के साथ पैदा होता है। कई बार यह एक Natural gift होता है। यह सब से खुद ढूंढना होता है। हम सभी के अंदर एक creator छुपा होता है। जो कुछ क्रिएट करने का इंतजार करता है। लेकिन हमारी यह potential तब तक बाहर नहीं आती जब तक हम इसे ढूंढ नहीं लेते हैं। और लगातार प्रैक्टिस नहीं करते हैं।

अधिकतर लोग talent को ऐसा समझते हैं वो सिर्फ creative लोगों में होता है। लेकिन ऐसा नहीं होता है। यह सभी चीजें naturally हमारे अंदर से practice के फल स्वरुप बाहर आती है। दोस्तों अभी मैं जिस talent की बात कर रहा हूं। वह कोई artistic talent नहीं है। बल्कि मैं उस टैलेंट की बात कर रहा हूं जो आपको कुछ भी महान करने की potential देती है। किसी भी talent पर बार-बार प्रैक्टिस करके आप उसे अपना second nature बना सकते हो।

आपको कभी भी यह नहीं सोचना चाहिए। आपके अंदर छुपा talent बिना मेहनत के बाहर आ जाएगा। उसको बाहर लाने के लिए दिन-रात practice करना पड़ेगा। आपको यह समझना होगा कि आप क्या करने के लिए पैदा हो गए हैं। जैसे ही आप यह समझ जाएंगे। तो उस काम को करने के लिए आपको बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी। लेकिन इस काम को करने का मजा ही कुछ और होता है। अंदर से एक pure satisfaction मिलता है।

आप किस चीज में talented हो यह समझने के लिए आपको सबसे पहले समझना होगा। आपका interest किस चीज में है। और क्या आप उस चीज को अपने प्रोफेशन बना सकते हो। दोस्तों इस का चुनाव करते वक्त आप हमेशा नेम फेम को हटाकर करना चाहिए। क्योंकि अधिकतर लोग interest का चुनाव नेम फेम के लिए करते हैं। और अंत में अपने आप को गलत साबित करते है जैसे – कोई हीरो बहुत ज्यादा famous है उसको बहुत सारा पैसा मिलता है, बड़ी-बड़ी गाड़ियों में घूमता है। सभी लोग उसको पसंद करते हैं।….. यह सब देखने के बाद अगर आप इसे अपना interest बताते हैं। तो सावधान हो जाइए।

Interest का संबंध ऐसी चीजों से है। जब दुनिया आप पर ध्यान ना भी दे, उसके बदले में आपको कोई पैसा ना मिले लेकिन फिर भी उस काम को आप अपनी खुशी के लिए करते हो। बिना किसी चीज की परवाह किए। यही होता है असली interest। इसे ढूंढो और इसे अपना second nature बना लो।

Read this-हमें प्यास क्यों लगती है ? बिना उबाले दूध जल्दी खराब क्यों जो जाता है ?

जीवन मे talent का महत्व

जीवन में सफलता पाने के लिए यह परम आवश्यक है कि आप आत्म-निरीक्षण करके यह ज्ञान लें कि लोगों में आपके प्रति क्या धारणाएं हैं। लोग आपको कितना चाहते हैं और कितना नहीं चाहते हैं। आप सहज ही यह पता लगा सकते हैं। लोगों के विचारों का पता उनके व्यवहार और वार्तालाप से चल जाता है।

फिर आप एकांत में बैठकर चिंतन-मनन करने की आदत डालिए। रात्रि में सोने से पूर्व यदि आप अपना निरीक्षण करें और देखें कि दिन भर में आपने क्या-क्या भूलें की हैं तो बहुत सी भूलों को आप सुधार सकते हैं। दोबारा ऐसी गलतियां करने से सचेत भी हो सकते हैं।

अपनी भूलों पर कुढ़िए मत। न पश्चात्ताप के आंसू बहाइए बल्कि यह चिंतन कीजिए कि अब भविष्य में वैसी भूल से कैसे सचेत हुआ जा सकता है। आपने किसी से ऐसा व्यवहार कर दिया है जिससे उसके हृदय को कष्ट हुआ है तो आप उससे क्षमा मांग लीजिए और भविष्य में किसी से
भी ऐसा त्रुटिपूर्ण व्यवहार मत कीजिए।

Read this-दूध,दही और मक्खन के जबदस्त फायदे (About milk in hindi)

अवगुण बनाम अच्छी आदतें आत्म-निरीक्षण से आपको यह भी ज्ञान होगा कि आप कितने लोकप्रिय अथवा कुख्यात हैं। आप कितने सफल हैं या असफल। आपमें कितने गुण हैं और कितने अवगुण। अपने अवगुणों की समीक्षा कीजिए। उन्हें त्यागिए। जो भी बुरे व्यसन हैं, उन्हें छोड़ दीजिए और अच्छी आदतें डाल लीजिए। आपमें जो अच्छी बातें हैं, अच्छे गुण हैं, उनका विकास कीजिए।

आत्मविश्वास और परिश्रम के बल पर आप उन गुणों को बढ़ाकर महान् बन सकते हैं। बिना आत्म-निरीक्षण के कभी भी आपको यह पता नहीं लग सकता कि आप क्या बनना चाहते हैं? जब तक आप यह नहीं जानते तब तक आगे कैसे बढ़ा जा सकता है? पहले अपना अध्ययन कीजिए कि आप क्या चाहते हैं। क्या बनना चाहते हैं? आपकी महत्वाकांक्षा क्या है? अपने जीवन को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं?

इन प्रश्नों का उत्तर कोई दूसरा व्यक्ति देने नहीं आएगा। आप स्वयं से ही प्रश्न करें और स्वयं उत्तर दें। अपने अंदर झांककर देखें और अच्छी तरह निरीक्षण करें। मन का कोना-कोना देखें। पता लगाएं कि क्या बनने की आपमें प्रबल इच्छा और महत्वाकांक्षा है?

पहचानिए अपने आपको कि आप क्या हैं? देख लीजिए तौलकर अपनी शक्ति को। आप देखेंगे कि आपमें महानता छुपी पड़ी है। आप पाएंगे कि आपमें शक्तियां भी प्रचुर मात्रा में हैं। आपने अभी तक उनका प्रयोग नहीं किया है। आपकी प्रतिभा पर धूल जम गई है। उसे हटाइए, निखारिए, चमकाइए तो आप आत्मविश्वास के सहारे परिश्रम से आगे बढ़ते जाएंगे। महान बनते चले जाएंगे।

यह सब तभी संभव होगा जब आप आत्म-निरीक्षण करके अपने संबंध में जानकारी एकत्र कर चुके होंगे आत्म-निरीक्षण द्वारा ही स्वयं जाना-पहचाना जा सकता है। बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो मन ही मन यह समझे रहते हैं कि वे जो भी कहते हैं उन सब बातों को अच्छा माना जाता है। कभी वे गलत नहीं कहते, न ही त्रुटियां करते हैं।

जबकि वास्तविकता यह होती है कि उनकी हर बात समाज में निकृष्ट कही जा रही है, सब उनकी निंदा करते हैं, उनकी हर बात और कार्य त्रुटिपूर्ण है। उनके मुंह पर लोग उनकी आलोचना नहीं करते। इसलिए उन्हें वास्तविकता का ज्ञान नहीं होता और वे भ्रम का शिकार हो जाते हैं। यह भ्रम कैसे दूर हो? कोई उनकी आलोचना मुंह पर तो करता नहीं है।

अतः उन्हें यह पता ही नहीं चलता कि उनके बारे में लोगों की क्या धारणा है? यह पता लगेगा आत्म-निरीक्षण से। आत्म-निरीक्षण कीजिए। स्वयं को तटस्थ होकर देखिए, फिर आत्मालोचन कीजिए और अपने अंदर जो भी त्रुटियां देखिए उन्हें दूर करने का प्रयास कीजिए।

talent acquisition meaning in hindi,hidden talent meaning in hindi,talent pool meaning in hindi,multi talent meaning in hindi,talent manager meaning in hindi,talent meaning in hindi and english,what a talent meaning in hindi,brilliant talent meaning in hindi,hard work beats talent meaning in hindi,talent acquisition executive meaning in hindi

यह article “Talent का मतलब क्या होता है,Talent को कैसे ढूंढे,Talent क्या है(About Talent meaning in hindi)“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।