What Is Space?

You are currently viewing What Is Space?

अगर 18वी सादी मे आपको कोई ये प्रश्न पूछे कि universe किस चीज का बना है. तो आप तो क्या अच्छे अच्छे साइंटिस्ट भी कहते 120 elements के एक दूसरे के combination और compound से ब्रह्माण्ड का एक एक particle बना है. अगर आप केमिस्ट्री मास्टर हो तो इससे ज्यादा गहराई मे जा भी नही सकते. यही basicly आपकी पुरी दुनिया है. लेकिन 1807 मे एक साइंटिस्ट j j thomsan ने एक ऐसी खोज कि जिसने हमारी उस समय कि सोच को ही चुनौती दे दी. पहले तो scientists को लगा यह खोज सच हो ही नही सकती. But j.j thomsan ने cathode ray tube experiment के जरिये कुछ खास किस्म के negatively charge particles के होने का सबूत दिखाया. जिन्हे हम electrons कहते है. इसके लिए उनहोंने 1906 का noble prize भी जीता. पर यह तो विज्ञान के एक नई समझ कि शरुआत थी. उन्ही के university यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैंब्रिज से एक और साइंटिस्ट ernest rutherford ने एक atom जो उस समय कि सबसे सूक्ष्म चीज मानी जाती थी. उसकी गहराई मे स्टडी कि और वो exactly पता लगा पाए थे कि यह atom किस चीज का बना है. और फिर उन्होंने ने ये model बनाया..

IMG 20200215 232446 What Is Space?

जहाँ एक atom मे nucleus सबसे center मे होता है. उसके बाद हमने यह भी जाना कि nucleus अपने आप मे एक particle नही है. बल्कि वह proton और neutron के बने होते है. और फिर 1970 मे हमने यह जना कि proton और neutron भी सबसे सूक्ष्म particle नही है. जिनसे हमारा ब्रह्माण्ड बना है. बल्कि और तीन उनसे भी छोटे particle है. जिन्हे हमने नाम दिया है quarks ,
Up quarks और down quarks यह इनका बस नाम है इनका up और down स्पिन से कोई सम्बन्ध नही है. आज के updated theory के अनुसार एक proton
एक up quark और दो down quarks से बना है. लेकिन यहां पर एक problem है. यह एक सफेद झूठ है. इसे सफेद झूठ इसलिए बोला जता है ताकि student और आम इंसान इसलिए theory को आसानी से समझ सके.
पर यह हमारी दुनिया कि असल सच्चाई और वास्तविकता नही है. इस नज़र से अगर हम इस ब्रह्माण्ड को देखे तो हमें गहरे स्तर पर कुछ भी समझ मे नही आएगा. अब तक कि best theory जो हमारे पास है उसमे matter solid particle जैसे quarks या electron particle से बनते ही नही है. बल्कि आपकी मेरी और सभी कि वास्तविकता बनी है एक ऐसे fluids अर्थात तरल कि तरह किसी चीज से जो ब्रह्माण्ड मे हर जगह फैली है और विचित्र wave या vibration के रूम मे हिलती
दूलती रहती है. इस fluid जैसी चीज को हमलोग field’s कहते है. हमने fields के बारे मे science मे कई बार सुना होगा. जैसे electric field या megnetic field और actually इन field को discovere करने वाले साइंटिस्ट michael faraday का ही योगदान है. अब प्रश्न उठता है कि यह ब्रह्माण्ड कि field असल मे क्या है ब्रह्माण्ड कि field को हम एक तरह से quantum fields कहते है. जहाँ पर quantum fluctuations होती रहती है. यानी field का vibration, मतलब कि space का vacuum जिसे हम empty space कहते है वह empty नही है.
बल्कि कुछ इस तरह दीखता है

यह वीडियो quantum fluctuation को जितना हो सके सटीकता से हमें दिखता है. यह कोई theory नही है. बल्कि हम इसे measure कर सकते है कई बार यह experiment मे यह देखा गया है कि यदि दो metal को एक vacuum मे रखा जाये तो वह आपस मे चिपक जायेगे. यह संभव होता है space मे quantum’ fluctuation के कारण अब सवाल यह आता है कि quantum field बना किस चीज से है और यह vibration होते क्यों है. यह कोई जादू नही है बल्कि अलग अलग fields के layers से. पहले ही हमने periodic table को breakdown किया था.. तो हम finally यह कह सकते है कि ब्रह्माण्ड इन चारो particles से मिलकर बना है.

Electron,neutrino, up quak, down quak

इन चारे चीजों को हम particles कहते है. लेकिन quantum theory के अनुसार ये चार असल मे particle नही है. बल्कि चार अलग अलग fields है और इन fields मे disturbance या vibration को हम particle कहते है. जैसे ये चार particles है वैसे ही exactly आठ और particles को हमने आगे discover किये.. ये नये आठ particle कि properties बिलकुल same ही है पहले चार particle से,
अंतर बस यह है कि इन आठ नये particle का mass ज्यादा है.

इस table मे हम देख सकते है कि electron कि जो properties है वह same properties उसके निचे के दो elements muon, और ताऊ कि भी है, बस उनका mass electron से कई गुना ज्यादा होगा. जो भी elements इनके निचे दिखाई दे रहे है वह सभी same है बस उनके masse’s ज्यादा है. बस यह उनका नाम है नाम का उनके position और spin से कोई लेना देना नही है. यह वह सारे particles है जो हम आज तक जानते है. जब आप ब्रह्माण्ड मे छोटे छोटे स्तर पर देखोगे तो छोटे छोटे स्तर पर यह particle solid डॉट नही है. बल्कि अपने अपने fields मे vibration या wave है. और भी कुछ particle जरूर है जैसे कि darkmatter जिसे अब तक हम पुरी तरह से हम समझ नही पाए है. लेकिन क्या सिर्फ इतना ही ब्रह्माण्ड है? नही right !
ब्रह्माण्ड मे forces of nature यानी कि प्रकृति के बल भी है. जैसे gravity, electromagnetism , strong nuclear force और weak nuclear force अब ये सारे forces of nature के भी fields है और हर fields हमसे किस तरह से intrect करती है. उसके लिए particle है जैसे gravity के लिए graviton, Strong nuclear force’s के लिए gluons और weak nuclear forces के लिए w और z bosons … तो यह हमारा ब्रह्माण्ड है जितना physics जनता है अब तक,

अब तक हम जितना कुछ भी जानते है वह 100% बार calculate और proved हो चूका है और नतीजे के रूप मे हम देख सकते है आज कि technology लेकिन अब अगर इन सारे matter के fields और forces के fields को एक साथ simple equation मे बांधने के लिए भी बहुत सारी theory लिखी गयी है. रहस्य तो यह है कि सारे fields देखने मे जरूर एक दूसरे से अलग लगे लेकिन mathematically इन सारे मे बहुत ही similarity है तो इसलिए साइंटिस्ट का मनाना है…. ” हो सकता है ki ब्रह्माण्ड मे कोई एक matter का fields हो बस उन्हें हम अलग अलग angle से देख रहे हो. इससे भी बड़ी चौकाने वाली बात matter के 12 field और चार law of nature के fields भी mathematically काफ़ी हद तक आपस मे similarity दिखाते है. हमारे पास एक और theory है जो इस विचार को काफ़ी detaiलिए मे explain करती है. उसका नाम है the supersymmetric theory इसी से मिलती जुलती एक और theory है जिसका नाम है string field theory चाहे वह matter के fields हो या forces के fields सभी कुछ possible हो पाता है string field theory मे, एक ही किस्म के बहुत ही छोटे छोटे string के vibration या frecuancy decide करती है कि वह कौन सा particle या field of nature बनेगा. इस theory से हम brahand मे सब कुछ explain कर सकते है. यहां तक कि dark matter, dark energy और big bang को भी,