हीरा क्या होता है, हीरा कैसे बनता है (What is Diamond in hindi )

You are currently viewing हीरा क्या होता है, हीरा कैसे बनता है (What is Diamond in hindi )

हीरा (Diamond in hindi)-यह कार्बन का रवादार अपररूप है। प्राप्ति-हीरा कार्बन का सबसे शुद्ध रूप है । भारतवर्ष में गोलकुंडा, अनंतपुर, बेलारी, पन्ना आदि स्थानों में हीरा मिलता है। हीरे का स्रोत किंबरलाइट नामक पत्थर है। संसार के कुछ विख्यात हीरों में कुलिनन, होप, कोहिनूर और पिट है।

दक्षिण अफ्रीका, बाजील, आस्ट्रिया तथा अमेरिका में हीरा की खानें हैं। दक्षिण अफ्रीका में सबसे अधिक हीरा की खानें हैं, अर्थात् विश्व का अधिकांश हीरा यहीं से प्राप्त होता है। हीरा एक बहुमूल्य पत्थर है। इसकी माप कैरेट में होती है। 1 कैरेट 0.2 ग्राम । विश्व के कुछ विख्यात हीरों की तौल निम्नलिखित हैं-

होप 44.5 कैरेट
पिट 136.2 कैरेट
कोहिनूर 186 कैरेट
कुलिनन 303.2 कैरेट

हीरा के गुण-Properties of diamond in Hindi

(i) हीरा की संरचना में प्रत्येक कार्बन परमाणु चार पड़ोसी कार्बन-परमाणुओं द्वारा सहसंयोजी बंधन से जुड़ा रहता है। ये चारों पड़ोसी कार्बन परमाणु एक समचतुष्फलक के चारों शीर्षों पर रहते हैं। अत:, हीरा(About Diamond in hindi)का रवा कार्बन परमाणुओं का बना होता है जो मजबूती के साथ सहसंयोजी बंधनों के जालक के रूप में परस्पर बँधे रहते हैं। इसी कारण, हीरा प्राकृतिक पदार्थों में सबसे अधिक कठोर होता है।

इसकी कठोरता के ही कारण इसका उपयोग पृथ्वी के अंदर छेद करने वाले यंत्रों और काँच काटने में किया जाता है।

(ii) इसका अपवर्तनांक उच्च होता है जिससे इसमें अत्यधिक चमक होती है। इसका अपवर्तनांक 2.45 है।

(ii) यह काफी भारी होता है। इसका विशिष्ट गुरुत्व 3.5 होता है।

(iv) यह विद्युत का कुचालक होता है।

(v) यह किसी भी विलायक या द्रव में अविलेय होता है।

(vi) यह अक्रिय होता है। यह लाल तप्त अवस्था में ऑक्सीजन में जलकर कार्बन डाइऑक्साइड बनाता है

(vii) सल्फ्यूरिक अम्ल तथा पोटैशियम डाइक्रोमेट के साथ गर्म करने पर हीरा कार्बन डाइऑक्साइड में बदल जाता है और कुछ भी अवशेष नहीं बचता।

(viii) यह X-किरणों के लिए पारदर्शी होता है, लेकिन नकली हीरा x-किरणों के लिए अपारदर्शी होता है।

हीरा का उपयोग-Uses of diamond in hindi

(i) हीरा पारदर्शी होता है। इसका अपवर्तनांक उच्च होने के कारण यह प्रकाश-किरणों को तेजी से मोड़ देता है। अतः, हीरा के जरा-सा हिलने-डुलने से कई प्रकार के रंगों का प्रदर्शन होता है। X-किरणों के पड़ने पर यह हरा रंग प्रदर्शित करता है। इसी कारण हीरा आकर्षक और बहुमूल्य होता है है।

(ii) काला हीरा बोर्ट कहलाता है जिसका उपयोग काँच काटने, चट्टानों में छेद करने तथा पत्थरों पर पॉलिश करने में किया जाता है।

(iii) रंगहीन हीरे आभूषण बनाने के काम में आते हैं।

यह article “हीरा क्या होता है, हीरा कैसे बनता है (What is Diamond in hindi )“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।