What Causes of Lighting | आसमानी बिजली कैसे गिरती है?

You are currently viewing What Causes of Lighting | आसमानी बिजली कैसे गिरती है?

मानसून के season मे अगर तेज बारिश के साथ कुछ और आता है. तो वो है गरजते बादल और चमचमाती बिजली,
बिजली एक ऐसी चीज है जिसके बारे मे हम बहुत सुनते है हमें इसे दूर रहने के लिए भी कहा जाता है कि हमें खुले मैदान मे नही जाना चाहिए अगर तेज बिजली कड़क रही हो तो,
क्या actually मे हमने कभी सोचा है कि बिजली क्या चीज है? और यह आसमान मे बादलो से creat कैसे होती है?
इस article मे हम इसके scientific reason के बारे मे discuss करेंगे. और इस article के अंत तक हमारे पास जवाब होगा कि lighting और thunder चीज क्या है?

Most shocking lighting strike

Lighting का science बिल्कुल simple है. इसको हम अपनी रोज के जीवन मे कई बार experience करते है. हम सभी ने सुना होगा static electricity के बारे मे,
जो creat होता है दो objects के बिच friction के कारण,
शायद आपलोगो को याद होगा एक बहुत ही famous experiment के बारे मे जो हमने बचपन मे स्कूल मे किया था,
जिसमे हम एक rod को एक सिल्क cloth से रगड़कर electric charge उत्पन्न करते थे.
जो छोटे छोटे पेपर के टुकड़े को अपनी और attract करता था बिलकुल magnet कि तरह,
Basically जैसा कि हम जानते है कि कोई भी चीज atom से मिलकर बानी होती है. एक atom का nucleus positively charge होता है क्युकी उसके protons और neutron होते है.
उसके बाहर negatively charge electron spin करते हुए घूमते है. तो जब हम एक glass rod को सिल्क से रगड़ते है. तो glass rod से कुछ electron transfer होकर सिल्क मे चले जाते है. जिसके कारण rod positively charge हो जाता है और जब rod को कागज के पास लाया जाता है तो वह उसे attract करता है इसे कहते है statics electricity,
अपने इसे daily life मे भी experience किया होगा जब आप कभी किसी कारपेट से चलकर जाते है, और दरवाजा खोलने के लिए door नॉक को टच करते हो, तो आपको बिजली का झटका महसूस होता है और लाइट बंद हो तो आपको एक छोटा सा spark भी दिखेगा.
पता है यह क्यों होता है, क्युकी चलते समय हमारी बॉडी statics electricity creat करता है. क्युकी यहां यहां friction होती है हमारी body और कारपेट के बिच.
Lighting के वक़्त ऐसा ही कुछ बदलो के बिच होता है. But एक बहुत ही बड़े level पर

lighting कैसे काम करती है


Clouds मे छोटे छोटे ice के piece होते है जो आपस मे टकराते रहते है क्युकी बादल move करते रहते है.
इस friction कि वजह से एक electric charge creat होता है जो negative charge होता है और यह charge बढ़ता जाता है क्युकी ice के particle एक दूसरे से बार -बार टकराते रहते है दूसरी तरफ ज़मीन पर कुछ जगह हमेशा positive charge होते है
अब जैसा कि हम जानते है कि negatively charge particles आकर्षित करते है positively charge particle को.
Clouds के negatively charge particle सही condition देखकर ज़मीन के पॉजिटिव चार्ज particles से intrect करते है जिससे एक धमाकेदार lighting creat होती है.
जो electron को transfer करता है earth से cloud मे,
इस transfer होने वाले electron’s को हम lighting कहते है. जिसे हम negatively charge lighting कहते है.
और भी कई तरह के lighting है जो clouds के एक parts से दूसरे parts मे जाते है
अब हम यह समझ चुके है कि lightning कुछ और नही बल्कि electron’s का flow है.
तो यह स्वाभाविक है कि heat तो generate होंगी ही,
यही heat बदलो के गरजने का प्रमुख कारण है क्युकी lighting के बाद एयर तेजी से expand होने लगता है यह इतनी तेजी से expand होता है कि अपने अपने आस पास कि cold एयर को बहुत तेजी से धक्का देता है जिसके कारण ही creat होता है. एक धमाकेदार noise,

तो friends ये article पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया. उम्मीद करता हुँ. कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा.