बहुलक व प्लास्टिक क्या है, बहुलक के बारे मे बेसिक जानकारी (Polymer in hindi)

You are currently viewing बहुलक व प्लास्टिक क्या है, बहुलक के बारे मे बेसिक जानकारी (Polymer in hindi)


बहुलकीकरण व प्लास्टिक (Polymerisation and Plastics)

Polymer in hindi-बहुलकीकरण वह अभिक्रिया है जिसमें एक ही प्रकार के एक से अधिक अणु आपस में जुड़कर कोई अधिक अणुभार वाला बड़ा अणु बनाते हैं।बहुलकीकरण में भाग लेने वाले अणुओं को एकलक (monomer) व उत्पाद को बहुलक (polymer) कहते हैं। बहुत से असंतृप्त हाइड्रोकार्बन, जैसे-एथिलीन, प्रोपिलीन आदि बहुलकीकरण की क्रिया के पश्चात् जो उच्च बहुलक बनाते हैं उसे ही प्लास्टिक कहा जाता है ।

प्लास्टिक आधुनिक जीवन का अत्यन्त उपयोगी पदार्थ है। प्लास्टिक द्वारा बाल्टियाँ, टूथब्रश, रेडियो, बिजली के स्विच,टेलीफोन आदि बनाये जाते हैं। प्लास्टिक कई प्रकार के होते हैं। प्लास्टिकों को उनकी ताप सहन करने की क्षमता के अनुसार निम्न भागों में विभाजित किया जा सकता है-

थर्मोप्लास्टिक (Thermoplastic Polymer in hindi)—

इस प्रकार के थर्मोप्लास्टिक उच्च ताप व दाब प्लास्टिक के अन्तर्गत वे प्लास्टिक आते हैं जो ऊष्मा पाकर शीघ्र पिघल जाते हैं। जैसे-पालीथीन, पॉली वाइनिल क्लोराइड आदि।

प्लास्टिक(Thermosetting plastics)—

इसके अन्तर्गत बैकेलाइट, फिनोल रेजिन, पालिस्टर,सिलिकॉन, यूरिया फार्मेल्डिहाइड आदि प्लास्टिक आते हैं। ये ऊष्मा पाकर पिघल जाते हैं, परन्तु अधिक ऊष्मा देने पर कड़े हो
जाते हैं।

प्लास्टिक के प्रकार (Kinds of plastics)-

प्लास्टिक कई प्रकार के होते हैं। कुछ प्रमुख प्लास्टिक निम्न हैं-

पोलीथीन (Polythene)—

पोलीथीन एथिलीन के उच्च ताप व उच्च दाब पर बहुलकीकरण के फलस्वरूप प्राप्त किया जाता है। यदि बहुलकीकरण में एथिलीन के n अणु भाग लें तो पोलीथीन निम्न अभिक्रिया के फलस्वरूप बनता है-
nCHA ——–(उच्च ताप व दाब)——>(C2H4)n
एथिलीन पोलीथीन

पोलीथीन पर अम्ल, क्षार आदि का प्रभाव नहीं पड़ता। इसका उपयोग खिलौने, बोतल, बाल्टी, पाइप व पैकिंग की पन्नी आदि बनाने में किया जाता है।(Polymer in hindi)

पाली वेनिल क्लोराइड (Poly Vinyl Chloride,PV.C.)

यह प्लास्टिक वाइनल क्लोराइड के बहुलकीकरणके फलस्वरूप प्राप्त होता है। इसका उपयोग सीट कवर, चादरें, फिल्म,पर्स, बरसाती आदि बनाने में किया जाता है।

पालीस्टाइरीन (Polystyrene)—

पालीस्टाइरीन, फेनिल एथिलीन के बहुलकीकरण के फलस्वरूप प्राप्त होता है। इसे स्टाइरोन (styron) भी कहा जाता है । इसका उपयोग अम्ल रखने की बोतलों व सेलों के कवर आदि बनाने में किया जाता है।

बैकेलाइट (Bakelite)—

बैकेलाइट फिनॉल व फार्मेल्डिहाइड के बहुलकीकरणके फलस्वरूप प्राप्त होता है। यह रेडियो, टेलीविजन के आवरण, ढलाई आदि के काम आता है।

कृत्रिम रबर (Synthetic rubber)-

कृत्रिम रबर, रबर के पेड़ों से निकले लैटेक्स (latex) से बनाया जाता है। कृत्रिम रबर आईसोप्रीन (Isoprene) का बहुलक है।

यूरिया फार्मेल्डिहाइड प्लास्टिक-

यह प्लास्टिक यूरिया व फार्मोल्डिहाइड के जलीय विलयन को गर्म करके बनाया जाता है। इसका उपयोग सजावट करने वाली वस्तुओं को बनाने में किया जाता है।

यह article “बहुलक व प्लास्टिक क्या है, बहुलक के बारे मे बेसिक जानकारी (Polymer in hindi)“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।