Mysterious Number 3 | नम्बर तीन का रहस्य

You are currently viewing Mysterious Number 3 | नम्बर  तीन का रहस्य

पूरे मानव इतिहास मे तीन नंबर का एक अनोखा महत्व है लेकिन क्यों? आप किसी भी प्राचीन संस्कृति को देख लीजिये. हर जगह के प्रमुख देवता तीन होते है. आखिर तीन नंबर मे ऐसा क्या है. जिसने इसे धर्म, वास्तुकला, और रहस्य जादू के लिए इतना महत्वपूर्ण बना दिया. विश्व कि कई संस्कृतियों मे यह धारणा मौजूद है. अंक तीन किसी बेहद रहस्यमई अलौकिक शक्ति का प्रतिक है professor Tok thompson के अनुसार “इंसान नंबरो कि भाषा जानते है. हम ऐसी दुनिया मे रहते है. जहाँ चीझो को अलग अलग नंबर से देखते है. अलग अलग संस्कृतियों मे नंबरो को खास जगह दी गयी है. इन नंबरो से जरूरी रीती रिवाज़ बने हुए है. दुनिया भर कि संस्कृतियों मे नंबर तीन का use किया गया है. ” हम अपनी ज़िन्दगी को ही देख ले ये भी तीन हिस्सों मे है. Past, present और future.तीन नंबर मे कुछ तो ऐसा छिपा है जो हमारा ध्यान खींचना चाहता है. हमें कुछ बताना चाहता है. हिन्दू धर्म ग्रंथो मे भी specially तीन gods को सबसे powerfull दिखाया गया है. यहां नंबर तीन को काफ़ी अहमियत दी गयी है. कुछ विचारको
का यह मानना है कि हमारे अन्दर कुछ है जो हमें यह मानने पर मजबूर करता है कि नंबर तीन एक पवित्र नंबर है.

चलिए मिश्र चलते है. गीजा के pyramid बेहद दिलचस्प है. यहां तीन pyramid’s है इनके size triangles है अब आप त्रिकोण के बारे मे सोचिये. यह रेखा गणित का सबसे अच्छा और सरल उदाहरण है. हमारे पूर्वजो को geometry से लगाव था. सबसे पहले त्रिकोण कि आकृति हमारे दिमाग को अवचेतन मन ने दी है शायद त्रिकोणो के रहस्य से जुडी महत्वपूर्ण जानकारी mathematician से मिल सकती है. ईशा पूर्व छठी शताब्दी यूनानी mathematician और विचारक pythagoras ने अपने मशहूर सिद्धांत a2+b2=c2 दिया यह सूत्र एक rectangle triangle के तीनो sides के बिच एक mathematical सम्बन्ध को दर्शाता है. Pythagoras ने हमें सिखाया कि ब्रह्माण्ड मे हरेक चीज का ढाँचा तीन हिस्सों से मिलकर बना है.
Cambridge university (england ) मे newton 17 शताब्दी के सबसे प्रभावसाली scientist रहे. Newton द्वारा दिया गया सिद्धांत modern physics का आधार बना.” The three laws of motion”दुनियाभर के विचारको और साइंटिस्ट कि theories मे नंबर तीन का जिक्र मिल ही जाता है. कही ना कही नंबर तीन से हमें पूर्णता कि जानकारी मिलती है.
महान scientists nikola tesla को तीन नम्बरो से बहुत ही लगाव था. वह कहते थे. “If yon know the magnificence of 3, 6 and 9 you would have a key of the universe ” मतलब यदि आप 3, 6, 9 के रहस्य को जान जायेंगे तब आपके पास ब्रह्माण्ड कि कुंजी होंगी. Tesla अपने research papers मे लिखते है. ” if you want to find the secret of the universe think in terms of energy, frequency and vibration ” मतलब यदि आप ब्रह्माण्ड के रहस्य को समझना चाहते हो. तो आपको energy, frequency और vibration के term मे सोचना होगा. आखिर tesla हमें क्या बताना चाहते थे. शायद उन्हें आभास हो चूका था कि ब्रह्माण्ड कि बुनियाद तीन चीजों से ही. कुछ scientists का मानना है कि नम्बर तीन का जवाब हमारे genetics से भी मिल सकता है.
न्यूयोर्क सन 1966 मे scientists ने आधुनिक विज्ञान के सबसे बड़े खोजो मे से एक खोज कि घोसणा कि वह genetics code कि पहेली को सुलझाने मे कामयाब रहे. वर्षो कि खोज के बाद यह पता चला कि DNA का universal structure को codons या triple-x कहलाने वाले तीन तीन moliculer combination कि एक sequence से बनी है. इसे थोड़ा अच्छे से समझते है. हमारे शरीर मे DNA sequence होता है. यह हमारे शरीर कि प्रोटीन कि coding होती है जब हम इसे देखते है तो यह तीन के sequence मे ही नज़र आता है. इससे साफ है कि नम्बर तीन एक खास कड़ी है. हमारे DNA language कि मुझे लगता है कि वक़्त के साथ हमें यह पता चल जायेगा कि DNA को ब्रह्माण्ड को ध्यान मे रखकर लिखा गया है. और यह जुडा हुआ है quantum physics के मूल आधार से, हम साफ साफ देख सकते है कि नम्बर तीन कि शक्ति पूरे ब्रह्माण्ड मे समाई हुई है. यहां तक कि हमारे DNA मे भी.