वाष्पीकरण की परिभाषा(Evaporation in hindi)क्या है? वाष्पीकरण का दैनिक जीवन मे प्रयोग

वाष्पीकरण की परिभाषा(Evaporation in hindi)क्या है? वाष्पीकरण का दैनिक जीवन मे प्रयोग

वाष्पीकरण की परिभाषा(Evaporation in hindi)—

वाष्पीकरण प्रक्रिया है जिसमें प्रत्येक तापक्रम पर द्रव, द्रव की सतह से वाष्प में बदलता रहता है वाष्पीकरण कहलाता है। वाष्पीकरण की दर वायुमंडल की आर्द्रता के व्युत्क्रमानुपाती, वायुमंडल के ताप के समानुपाती तथा द्रव के तल के क्षेत्रफल के अनुक्रमानुपाती के रूप में बढ़ती है।

वाष्पीकरण क्या है (About Evaporation in hindi )-

Evaporation in hindi

पदार्थ प्रत्येक ताप पर अपनी द्रव अवस्था से वाष्प अवस्था में परिवर्तित होता रहता। द्रव अवस्था से वाष्प में परिवर्तित होने की इस प्रकिया को ‘वाष्पीकरण’ कहते हैं।

वाष्पीकरण का दैनिक जीवन मे उदाहरण- Examples Evaporation in hindi

वाष्पीकरण द्रव के सतह से प्रारम्भ होत है। वाष्पीकरण में द्रव के अणु जिनकी ऊर्जा सामान्य से अधिक होती है द्रव की सतह छोड़कर चले जाते हैं, जिससे द्रव का ताप गिर जाता है।

द्रव का वाष्पीकरण वायुमण्डल में उपस्थित वाष्प की मात्रा, द्रव सतह के क्षेत्रफल तथा द्रव के ताप पर निर्भर करता है। यदि वायुमण्डल में वाष्प की मात्रा अधिक होती है तो वाष्पीकरण घट जाता है तथा यदि वाष्प की मात्रा कम होती है तो वाष्पीकरण बढ़ जाता है।

गर्मी के दिनों में वायुमण्डल में जलवाष्प की मात्रा अत्यन्त कम हो जाने के कारण जल का वाष्पीकरण अधिक होता है, जिससे जल का ताप गिर जाता है, जबकि बरसात के दिनों में वायुमण्डल में जल वाष्प की मात्रा अधिक होने के कारण वाष्पीकरण कम होता है ।

यही कारण है कि गीले कपड़े गर्मियों में जल्दी व बरसात में देर से सूखते हैं। सुराही में रखा पानी उसके सूक्ष्म छिद्रों से बाहर आता है। गर्मियों के दिनों में इससे अधिक वाष्पीकरण होने के कारण सुराही का पानी गर्मियों में अधिक ठण्डा रहता है जब कि बरसात के दिनों में कम ठण्डा रहता है ।

जब पसीना शरीर से निकलता है तो इसका वाष्पीकरण होता है। इस प्रक्रिया में पसीना शरीर से ऊष्मा अवशोषित करता है जिससे ठण्डक महसूस होती है। यदि थोड़ी सी ईथर की मात्रा हथेली पर ली जाय, तो यह हाथ से ऊष्मा लेकर वाष्पीकृत हो जाती है, जिसके कारण हथेली को ठण्डक महसूस होती है।

बुखार(fever)के समय जब रोगी के शरीर का ताप बढ़ जाता है तोउसके माथे पर गीला कपड़ा रख देते हैं तथा शरीर को गीले कपड़ेसे पोछते हैं। इस प्रकिया में जल शरीर से ऊष्मा लेकर वाष्पीकृत होता है, जिससे शरीर का ताप कम हो जाता है।

यह article “वाष्पीकरण की परिभाषा(Evaporation in hindi)क्या है? वाष्पीकरण का दैनिक जीवन मे प्रयोग ” पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा।