वसन्त ऋतु पर निबंध सम्पूर्ण जानकारी(Essay About spring season hindi)

वसन्त ऋतु (विषय-प्रवेश-वसंत की शोभा, स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण, कृषि कर्म का समापन, मस्ती की ऋतु, उपसंहार।](Essay About spring season hindi)

मन्द हवा चली,विहँस उठी कली-कली भौरे बोराए, ऋतुराज आए।” ऋतुएँ तो अनेक हैं लेकिन वसंत की सज-धज निराली है। इसीलिए वह ऋतुओं का राजा, शायरों-कवियों का लाड़ला, धरती का धन है। वस्तुतः इस ऋतु में प्रकृति पूरे निखार पर होती है।

वसन्त ऋतु का प्रारंभ वंसत पंचमी से ही मान लिया गया है, लेकिन चैत और बैशाख ही वसन्त ऋतु के महीने हैं। वसन्त ऋतु का समय समशीतोष्ण जलवायु का होता है। चिल्ला जाड़ा और शरीर को झुलसाने वाली गर्मी के बीच वसन्त का समय होता है। वसन्त के आगमन के साथ ही प्रकृति अपना शृंगार करने लगती है।

लताएँ मचलने लगती हैं और वृक्ष फूलों-फलों से लद जाते हैं। दक्षिण दिशा से आती मदमाती बयार बहने लगती है। आम की मँजरियों की सुगन्ध वायुमंडल को सुगन्धित कर देती है। मस्त कोयल बागों में कूकने लगती है। सरसों के पीले फूल खिल उठते हैं और उनकी भीनी-भीनी तैलाक्त गन्ध सर्वत्र छा जाती है। तन-मन में मस्ती भर जाती है। हिन्दी, संस्कृत तथा अंग्रेज कवियों ने वसंत का मनोरम वर्णन किया है। कालिदास, वर्ड्सवर्थ, पंत, दिनकर का वसंत-वर्णन पढ़कर किसका मन आनांदित नहीं होता?

स्वास्थ्य की दृष्टि से भी वसन्त ऋतु का महत्त्व बहुत अधिक है। न अधिक जाड़ा पड़ता है, न गर्मी। गुलाबी जाड़ा, गुलाबी धूप। जो मनुष्य आहार-विहार को संयमित रखता है, उसे वर्ष-भर किसी प्रकार का रोग नहीं होता है। इस ऋतु में शरीर में नये खून का संचार होता है। वात और पित्त का प्रकोप भी शांत हो जाता है। इस प्रकार, इस ऋतु में स्वास्थ्य और शारीरिक सौंदर्य की भी वृद्धि होती हैं।

वसंत उमंग, आनन्द, काव्य, संगीत और सौंदर्य की ऋतु है। यह स्नेह और सौंदर्य का पाठ पढ़ाता है। यही कारण है कि सारी दुनिया में वसन्त की (समरूप निबंध-ऋतुराज) व्याकुलता से प्रतीक्षा होती है।

यह article “वसन्त ऋतु पर निबंध सम्पूर्ण जानकारी(Essay About spring season hindi)“पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया उम्मीद करता हुँ। कि इस article से आपको बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा। दोस्तों हमारा यह पोस्ट अगर आपको पसंद आया है। तो कृपया करके अपने दोस्तों और सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर अवश्य कीजिए।